Digital Forensic, Research and Analytics Center

गुरूवार, अगस्त 18, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkफैक्ट चेक- लुलु मॉल में नमाज पढ़ने युवक हिन्दू नहीं थे, सोशल...

फैक्ट चेक- लुलु मॉल में नमाज पढ़ने युवक हिन्दू नहीं थे, सोशल मीडिया पर भ्रामक दावा वायरल

Published on

Subscribe us

लखनऊ के लुलु मॉल विवाद को लेकर सोशल मीडिया पर कई तरह के भ्रामक पोस्ट वायरल हो रहे हैं। इन्हीं भ्रामक पोस्टों में यह दावा किया जा रहा है कि लखनऊ के लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले 3 युवक हिन्दू थे। जिनके नाम सरोज नाथ योगी, कृष्ण कुमार पाठक और गौरव गोस्वामी हैं।

इस दावे के साथ ट्विटर पर वेरीफाइड यूजर और कांग्रेस नेता सलमान निजामी ने लिखा- “So those who offered Namaz in Lulu Mall in Lucknow posing as Muslims are- Saroj Nath Yogi, Krishna Kumar Pathak, Gaurav Goswami. This is how these hatemongers defame Muslims. Sensible Hindus must speak up and stop these thugs from defaming their religion!”

जिसका हिन्दी ट्रांसलेशन- “तो लखनऊ के लुलु मॉल में मुस्लिम बनकर नमाज पढ़ने वालों में हैं- सरोज नाथ योगी, कृष्ण कुमार पाठक, गौरव गोस्वामी। इस तरह ये नफरत फैलाने वाले मुसलमानों को बदनाम करते हैं। समझदार हिंदुओं को बोलना चाहिए और इन ठगों को अपने धर्म को बदनाम करने से रोकना चाहिए!”

वहीं इस दावे के साथ कई अन्य यूजर्स ने भी पोस्ट शेयर किया है।

फैक्ट चेकः

वायरल हो रहे दावे का फैक्ट चेक करने लिए हमने इन पोस्ट पर किए गए कमेंट्स देखें। इस कमेंट्स में DCP South Lucknow (@DCP_South) का एक ट्वीट पोस्ट किया जा रहा है। @DCP_South के इस पोस्ट में लिखा गया है- “आज दिनांक 15.07.2022 को विभिन्न धर्म एवं समुदाय के चार लोगों द्वारा लुलु मॉल में बिना अनुमति के धार्मिक क्रियाकलाप का प्रयास किया गया। इनका उद्देश्य जान-बूझकर साम्प्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ना था। लखनऊ कमिश्नरेट में पूर्व से धारा-144 द0प्र0सं0 भी लागू है। चारों व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया एवं न्यायिक हिरासत में भेजा गया जिनके नाम निम्नवत हैं- 1- सरोजनाथ योगी 2- कृष्ण कुमार पाठक 3- गौरव गोस्वामी 4- अरशद अली।”

इस संदर्भ में और ज्यादा जानकारी के लिए हमने थाना सुशांत गोल्फ सिटी के एसएचओ शैलेंद्र गिरी से संपर्क किया। शैलेंद्र गिरी ने बताया कि यह घटना 15 जुलाई 2022 की है। जिसमें तीनों हिन्दू अपना धार्मिक कार्य करना चाहते थे, जबकि मुस्लिम युवक नमाज पढ़ना चाहता था, इसलिए इन युवकों को शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इनका लुलु मॉल में नमाज पढ़ने की घटना से कोई संबंध नहीं है।

फैक्ट चेक- लुलु मॉल में नमाज पढ़ने युवक हिन्दू नहीं थे, सोशल मीडिया पर भ्रामक दावा वायरल

लखनऊ के लुलु मॉल विवाद को लेकर सोशल मीडिया पर कई तरह के भ्रामक पोस्ट वायरल हो रहे हैं। इन्हीं भ्रामक पोस्टों में यह दावा किया जा रहा है कि लखनऊ के लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले 3 युवक हिन्दू थे। जिनके नाम सरोज नाथ योगी, कृष्ण कुमार पाठक और गौरव गोस्वामी हैं।

इस दावे के साथ ट्विटर पर वेरीफाइड यूजर और कांग्रेस नेता सलमान निजामी ने लिखा- “So those who offered Namaz in Lulu Mall in Lucknow posing as Muslims are- Saroj Nath Yogi, Krishna Kumar Pathak, Gaurav Goswami. This is how these hatemongers defame Muslims. Sensible Hindus must speak up and stop these thugs from defaming their religion!”

जिसका हिन्दी ट्रांसलेशन- “तो लखनऊ के लुलु मॉल में मुस्लिम बनकर नमाज पढ़ने वालों में हैं- सरोज नाथ योगी, कृष्ण कुमार पाठक, गौरव गोस्वामी। इस तरह ये नफरत फैलाने वाले मुसलमानों को बदनाम करते हैं। समझदार हिंदुओं को बोलना चाहिए और इन ठगों को अपने धर्म को बदनाम करने से रोकना चाहिए!”

वहीं इस दावे के साथ कई अन्य यूजर्स ने भी पोस्ट शेयर किया है।

फैक्ट चेकः

वायरल हो रहे दावे का फैक्ट चेक करने लिए हमने इन पोस्ट पर किए गए कमेंट्स देखें। इस कमेंट्स में DCP South Lucknow (@DCP_South) का एक ट्वीट पोस्ट किया जा रहा है। @DCP_South के इस पोस्ट में लिखा गया है- “आज दिनांक 15.07.2022 को विभिन्न धर्म एवं समुदाय के चार लोगों द्वारा लुलु मॉल में बिना अनुमति के धार्मिक क्रियाकलाप का प्रयास किया गया। इनका उद्देश्य जान-बूझकर साम्प्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ना था। लखनऊ कमिश्नरेट में पूर्व से धारा-144 द0प्र0सं0 भी लागू है। चारों व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया एवं न्यायिक हिरासत में भेजा गया जिनके नाम निम्नवत हैं- 1- सरोजनाथ योगी 2- कृष्ण कुमार पाठक 3- गौरव गोस्वामी 4- अरशद अली।”

इस संदर्भ में और ज्यादा जानकारी के लिए हमने थाना सुशांत गोल्फ सिटी के एसएचओ शैलेंद्र गिरी से संपर्क किया। शैलेंद्र गिरी ने बताया कि यह घटना 15 जुलाई 2022 की है। जिसमें तीनों हिन्दू अपना धार्मिक कार्य करना चाहते थे, जबकि मुस्लिम युवक नमाज पढ़ना चाहता था, इसलिए इन युवकों को शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इनका लुलु मॉल में नमाज पढ़ने की घटना से कोई संबंध नहीं है।

वहीं इस संदर्भ में लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट ने भी पोस्ट करके तथ्यों को साफ किया है। जिसको आप इस लखनऊ कमिश्नरेट के ट्विट में पढ़ सकते हैं।

निष्कर्षः

हमारे फैक्ट चेक से साबित हो रहा है कि इन 3 हिन्दू युवकों और 1 मुस्लिम युवक को 15 जुलाई को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार किया है। इसका 12 जुलाई को लुलु मॉल में नमाज पढ़ने से कोई संबंध नहीं है। इसलिए सोशल मीडिया यूजर्स का दावा भ्रामक है।

दावा- लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले युवक हिन्दू थे

दावाकर्ता- सोशल मीडिया यूजर्स

फैक्ट चेक- भ्रामक

- Advertisement -

भारत माता का ताज हटाकर पहना दिया हिजाब?

Load More

Popular of this week

Latest articles

ट्रेन से यात्रा करने पर अब 1 साल बच्चे का भी लगेगा पूरा किराया? पढ़ें- फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर ‘दैनिक जागरण’ की वेबसाइट पर छपी एक न्यूज का स्क्रीन शॉट...

मुस्लिम युवक ने किया तिरंगे का अपमान, तिरंगा लगा रहे भगवाधारियों से की हाथापाई? पढ़ें- फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में...

भारत माता का ताज हटाकर पहना दिया हिजाब? सुदर्शन न्यूज़ ने किया भ्रामक दावा, पढ़ें- फ़ैक्ट चेक

15 अगस्त को आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर “आज़ादी के अमृत महोत्सव” का विशाल...

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने किया शहीद मंगल पांडेय का अपमान? पढ़ें- फैक्ट चेक

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से...

all time popular

More like this

ट्रेन से यात्रा करने पर अब 1 साल बच्चे का भी लगेगा पूरा किराया? पढ़ें- फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर ‘दैनिक जागरण’ की वेबसाइट पर छपी एक न्यूज का स्क्रीन शॉट...

मुस्लिम युवक ने किया तिरंगे का अपमान, तिरंगा लगा रहे भगवाधारियों से की हाथापाई? पढ़ें- फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में...

भारत माता का ताज हटाकर पहना दिया हिजाब? सुदर्शन न्यूज़ ने किया भ्रामक दावा, पढ़ें- फ़ैक्ट चेक

15 अगस्त को आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर “आज़ादी के अमृत महोत्सव” का विशाल...

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने किया शहीद मंगल पांडेय का अपमान? पढ़ें- फैक्ट चेक

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से...

ट्रिपल तलाक़ का फ़ैसला 5 अगस्त को नहीं, 22 अगस्त को आया था, पढ़ें फ़ैक्ट-चेक

सोशल मीडिया पर पांच अगस्त की तारीख़ के हवाले से कई दावे किये जाते...

फैक्ट चेकः राजस्थान के जालौर में शिक्षक द्वारा दलित छात्र की पिटाई के वायरल वीडियो की सच्चाई

राजस्थान के जालौर जिले की सुराणा गांव में एक दर्दनाक घटना घटी। 8 वर्षीय...