Skip to content Skip to sidebar Skip to footer
Saturday, January 29th, 2022

DFRAC विश्लेषणः ‘दलितों’ के खिलाफ भारत का ‘अन-सोशल मीडिया’

सोशल मीडिया देश के वंचित समुदायों, दूर दराज के इलाक़ों में रहने वाले लोगों और ग़रीब तबकों के लिए एक कारगर औज़ार की तरह है, जिससे वह अत्याचारों और प्रताड़नाओं…

EXCLUSIVE REPORT: बुल्ली बाई ऐप विवाद पर “सांप्रदायिक एजेंडे” का खुलासा

सोशल मीडिया पर नफरत का प्रसार और प्रचार आम बात हो चुकी है। हर दिन धर्म और जातियों को लेकर यहां गाली-गलौज, फूहड़ता और सांप्रदायिकता वाले कंटेंट को परोसा जा…

फैक्ट-चेक: आप विधायक के यूपी पुलिसकर्मी पर बाइक चुराने के दावे का जानिए सच

हाल ही में आम आदमी पार्टी के विधायक नरेश बाल्यान ने यूपी पुलिस पर बाइक चोरी का गंभीर आरोप लगाते हुए एक विडियो शेयर किया। उन्होने ट्वीट कर कहा, "ये आज…

DFRAC विशेषः हरिद्वार की “धर्म संसद” में दिए गए मुस्लिम विरोधी भाषणों का विश्लेषण

उत्तराखंड के हरिद्वार में खड़खड़ी स्थित वेद निकेतन आश्रम में 17 और 19 दिसंबर को हिंदुत्व संगठनों के चरमपंथियों का एक बड़ा कार्यक्रम 'धर्म संसद' के नाम पर आयोजित हुआ।…
did-congress-worker-in-amethi-misbehaved-with-journalist

फैक्ट चेक: क्या अमेठी में कांग्रेस कार्यकर्ता ने पत्रकार के साथ बदसलूकी की है, जानें वायरल वीडियो का सच

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेज़ी से वायरल हो रहा है। वीडियो में एक न्‍यूज चैनल का पत्रकार कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी से सवाल पूछने की कोशिश करता है तो…

पार्ट 1 : जाकिर नाईक का संगठन प्रतिबंधित लेकिन उसका मिशन अब भी जारी

भारत सरकार ने कट्टर सलाफ़ी स्कॉलर जाकिर नाईक के इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को सबसे पहले 2016 मे प्रतिबंधित किया था उसके बाद अभी दुबारा से गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए)…

जयपुर डायलॉग्स द्वारा फैलाये जा रहे नफरत और सांप्रदायिकता का विश्लेषण

जयपुर डायलॉग्स फोरम एक गैर लाभकारी संस्था (एनजीओ) है जो कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 8 थिंक टैंक के तौर पर पंजीकृत है। एनजीओ का पंजीकरण 24-11-2016 को कराया गया…

फैक्ट चेकः क्या केरल की चर्च पर IT रेड में जब्त हुए ₹7000 करोड़?

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर केरल के एक चर्च पर आईटी रेड में 7000 करोड़ रुपए मिलने का दावा किया जा रहा है। वायरल हो रही तस्वीर में एक टेबल पर…

नागेश्वर राव के नफ़रत का विस्तृत एनालिसिस

मूल रूप से तेलंगाना के जयशंकर भूपालपल्ली ज़िले के रहने वाले एम नागेश्वर राव रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी है। वह केंद्रीय जाँच ब्यूरो यानी सीबीआई के पूर्व निदेशक रह चुके है। वह अपने ट्विटर…