Digital Forensic, Research and Analytics Center

सोमवार, अगस्त 8, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमHate क्या दलित नफरत के केंद्र में बदल रहा है इंस्टाग्राम?

 क्या दलित नफरत के केंद्र में बदल रहा है इंस्टाग्राम?

Published on

Subscribe us

सोशल मीडिया का शाब्दिक अर्थ एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होता है| जहां यह कई लोगों के लिए वरदान है, वही दूसरों के लिए अभिशाप बन सकता है। जैसा कि लोग कहते हैं कि सोशल मीडिया बेजुबानों को आवाज देता है , यह कुछ हद तक सच है| लेकिन यह हमारे समाज के विरोधी तत्वों को भी आवाज देता है।

इन असामाजिक तत्वों के मन में ऐसी रूढ़िवादी विचारधारा हैं कि इसके नीचे या ऊपर कुछ भी उनके लिए काम नहीं करता है। वे सभी अलग-अलग समुदायों और लोगों के बीच नफरत फैलाने में व्यस्त हैं।

सोशल मीडिया के जरिए यह अब बहुत आसान हो गया है। यह हमारे राष्ट्र के लिए बड़े ही दुख की बात है | जो युवा देश के लिए एक बड़ी संपत्ति हो सकते हैं, वे वास्तव में एक बोझ बनते जा रहे हैं। अगर देखा जाए तो जिस सदी मे हम रेह है जो की 21वी सदी है, ऐसी रूढ़िवादी मानसिकता के बारे में सोचना एक सकारात्मक स्थान में रहने वाले व्यक्ति के लिए मुश्किल है| लेकिन, यह मौजूद है और इसे तब तक मिटा नहीं सकता जब तक कि वे स्वयं उस पर निर्णय नहीं लेते।

हुमे बहुत हैरानी हुई जब हमने इंस्टाग्राम पर समाज के विभिन्न वर्गों में नफरत फैलाने वाले बहुत सारे खातों को देखा, जैसे कि

एक तरफ ऐसे खाते थे जो महिलाओं को नीचा दिखा रहे हैं, वहीं कुछ अन्य हैं जो बहुजन समाज/दलितों को नीचा दिखाते हैं।

महिलाओं के खिलाफ नफरत

इस तरह के खातों के यूजर्स के लिए जिनके हिसाब से महिलाओं को शिष्ट, शुद्ध, पतिव्रत, अच्छी तरह से तैयार होना चाहिए, संक्षेप में, सुंदरता के निर्धारित मानकों को पूरा करना चाहिए| उनके लिए “फेमिनिस्ट” शब्द हाराम है। हमने कई पोस्ट और मीम्स देखे हैं जहां इंस्टाग्राम पर महिलाओं का मजाक उड़ाया जाता है।

 

दलितों के खिलाफ नफरत

नफरत फैलाने का स्तर महिलाओं तक ही सीमित नहीं है बल्कि दलितों को भी अपने घेरे में ले चुका है।

यह बात जगजाहिर है  कि डॉ. भीमराव अंबेडकर का हमारे संबविधा को तैयार करने मे एक महततावपूर्ण योगदान है| किन्तु उनको भी  सोशल मीडिया साइट्स पर ट्रोल किया जा रहा है । ये सभी प्रयास समाज के विभिन्न वर्गों में नफरत की अधिकतम मात्रा को खींचने के लिए हैं। लोग भीमराव के खिलाफ अपना आंदोलन दिखाते हैं क्योंकि वह वही थे जिन्होंने एससी / एसटी ( अनुसूचित जाति / जनजाति) आदि के लिए आरक्षण की वकालत की थी।

इंस्टाग्राम पर तरह-तरह के अकाउंट बनाए जाते हैं जिससे पता चलता है कि लोगों के मन में कितनी नफरत है।

भीमराव अंबेडकर ने एक नव बौद्ध आंदोलन शुरू किया था जिसके तहत उन्होंने 1956 में नवयान नामक बौद्धों के लिए नए स्कूल बनाए| बाद मे  लगभग आधा मिलियन दलित उनके साथ जुड़ गए और खुद को नवायान बौडिस्ट में परिवर्तित कर लिया| इस आंदोलन पर भी इंस्टाग्राम पर बहुत सारे मीम्स शेयर किए जाते हैं क्योंकि इस आंदोलन ने हिंदू धर्म को खारिज कर दिया| और न केवल भारत की जाति व्यवस्था को चुनौती दी बल्कि दलितों के अधिकारों को बढ़ावा दिया।

budha
budha2
budha3

मूलनिवासी शब्द दलितों को नीचा दिखाने के लिए कई मीम्स के रूप में भी फैलाया जा रहा है|

कुछ खाते दलितों पर ब्राह्मण वर्चस्व दिखा रहे हैं और समाज में वैमनस्य पैदा कर रहे हैं।

निष्कर्ष

ऐसी तस्वीरों और मीम्स का मुख्य उद्देश्य नकारात्मकता फैलाना और सब समाज के विभिन्न वर्गों के बीच एक दीवार बनाती है।

इसलिए समाज के राष्ट्रविरोधी तत्वों द्वारा निर्धारित एजेंडे को पूरा करना।

हमारा सुझाव है कि ऐसे मुद्दों और इंस्टाग्राम पर उपयोगकर्ताओं की जांच करें ताकि ऐसी सभी अपमानजनक गतिविधियों को रोका जा सके |

और एसे कदम उठाए जाए जिससे समाज की किसी भी महिला व दलित को बदनाम करने और अपमानित करने की शक्ति किसी के पास नहीं होगी।

 

 

 

Popular of this week

Latest articles

फैक्ट चेक: जगदीप धनखड़ देश के 16वें नहीं बल्कि 14वें उपराष्ट्रपति बने, पत्रिका ने चलाई गलत ख़बर

देश के प्रमुख राष्ट्रीय समाचार पत्रों में से एक पत्रिका ने जगदीप धनखड़ को...

फैक्ट चेकः हिन्दूओं ने गांव में बसाया था 1 मुस्लिम, अब मुस्लिम बाहुल्य हुआ गांव, हिन्दू कर गए पलायन?

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रहा है। इस पोस्ट को...

पैगंबर मुहम्मद की आड़ में भारत विरोधी एजेंडे का अंतर्राष्ट्रीय अभियान

पैगंबर मुहम्मद (ﷺ) का इस्लाम धर्म में अल्लाह के बाद सर्व्वोच स्थान है। दुनिया...

फैक्ट चेक: ‘ब्लादिमीर पुतिन बोले – POK खाली करो!’ जानिए – सच्चाई

सोशल मीडिया पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के नाम से एक पोस्ट बड़ी...

all time popular

More like this

फैक्ट चेक: जगदीप धनखड़ देश के 16वें नहीं बल्कि 14वें उपराष्ट्रपति बने, पत्रिका ने चलाई गलत ख़बर

देश के प्रमुख राष्ट्रीय समाचार पत्रों में से एक पत्रिका ने जगदीप धनखड़ को...

फैक्ट चेकः हिन्दूओं ने गांव में बसाया था 1 मुस्लिम, अब मुस्लिम बाहुल्य हुआ गांव, हिन्दू कर गए पलायन?

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रहा है। इस पोस्ट को...

पैगंबर मुहम्मद की आड़ में भारत विरोधी एजेंडे का अंतर्राष्ट्रीय अभियान

पैगंबर मुहम्मद (ﷺ) का इस्लाम धर्म में अल्लाह के बाद सर्व्वोच स्थान है। दुनिया...

फैक्ट चेक: ‘ब्लादिमीर पुतिन बोले – POK खाली करो!’ जानिए – सच्चाई

सोशल मीडिया पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के नाम से एक पोस्ट बड़ी...

फैक्ट चेक- केंद्र सरकार की योजनाओं में मुस्लिम लाभार्थियों पर पूर्व मंत्री नकवी ने किया भ्रामक दावा 

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में राहुल कंवल द्वारा पूछे गए एक सवाल को संबोधित करते...

फैक्ट चेक:- क्या नितिन गडकरी पीएम मोदी की आलोचना कर रहे हैं?

नितिन गडकरी का एक वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर वायरल हो रहा है। वीडियो...