Skip to content Skip to sidebar Skip to footer
Saturday, January 29th, 2022

फैक्ट चेक: जानिए मुस्लिमों द्वारा हिंदुओं को नपुंसक बनाने के लिए बिरियानी में दवा मिलाने की सच्चाई

सोशल मीडिया पर मुस्लिमों द्वारा हिंदुओं को नपुंसक बनाने के लिए बिरियानी में दवा मिलाने की एक बड़ी  पोस्ट वायरल ही रही है। जिसमे दावा किया गया कि हिंदुओं की…

फ़ैक्ट चेक: मुस्लिम युवक द्वारा छेड़खानी का विरोध करने पर एक मासूम बच्ची की चाकू से गोदकर हत्या | जानिये सच्चाई

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि क मुस्लिम युवक द्वारा छेड़खानी का विरोध करने पर एक मासूम बच्ची की चाकू से गोदकर हत्या…

#फ़ैक्टचेक: हिंदुओं को खुलेआम धमकी देने वाले विडियो की सच्चाई!

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेज़ी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में दावा किया गया है कि वीडियो में दिख रहा व्यक्ति दिल्ली का शहर काजी और आप…

EXCLUSIVE Report: कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी पर सोशल मीडिया पर फैले सांप्रदायिकता का विश्लेषण

भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर विवादित टिप्पणी करने वाले कालीचरण महाराज उर्फ अभिजीत धनन्जय सराग को छत्तीसगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। कालीचरण ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में…

फैक्ट चेक: क्या मुस्लिम युवक हिंदू युवतियों को नशीला पदार्थ देकर उनका धर्मांतरण कराते हैं?

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में सब-टाइटल भी है। इसमें चार युवा और दो युवतियां दिख रहे हैं। वे बालकनी में अपने…

फैक्ट-चेक: बांग्लादेश के भूत भगाने के वीडियो को केरल में जबरन धर्म परिवर्तन का बताकर किया शेयर

सोशल मीडिया पर एक वीडियो बड़े पैमाने पर वायरल हो रहा। जिसमे दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो केरल का है। जहां हिन्दू लड़कियो को जबरदस्ती मुस्लिम बनाया…

फेक्ट चेक: मुस्लिमों के सनातन धर्म में वापसी के दावे के साथ वायरल तस्वीर निकली झूठी

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर बड़े पैमाने पर वायरल हो रही। इस तस्वीर को शेयर कर दावा किया गया कि वसीम रिजवी जी के सनातन धर्म में घर वापसी के…

नागेश्वर राव के नफ़रत का विस्तृत एनालिसिस

मूल रूप से तेलंगाना के जयशंकर भूपालपल्ली ज़िले के रहने वाले एम नागेश्वर राव रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी है। वह केंद्रीय जाँच ब्यूरो यानी सीबीआई के पूर्व निदेशक रह चुके है। वह अपने ट्विटर…
heinous-video-bangladesh-kuwait-communal-violence-india

फैक्ट चेक: बांग्लादेश का जघन्य वीडियो कुवैत में भारत में सांप्रदायिक हिंसा के रूप में वायरल हो रहा

वकील मुजबिल अल-शरेका, @MJALSHRIKA के नाम से एक ट्विटर यूजर ने एक वीडियो पोस्ट किया। इस अकाउंट के 185K फॉलोअर्स हैं। यूजर ने 30 अक्टूबर, 2021 को एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें दो शख्स जमीन पर पड़े एक शख्स को बेरहमी से पीटते हुए दिखाई दे रहे हैं। @MJALSHRIKA द्वारा किया गया ट्वीट इस वीडियो को इस कैप्शन के साथ अपलोड किया गया है कि "अरब और मुस्लिम मुल्क कहां है?, क्या हम भारत के नरसंहार हिंदू शासन के साथ हमेशा की तरह व्यापार जारी रखेंगे?, क्या हम उन्हें अपने मुस्लिम भाइयों और बहनों को बेरहमी से मारने की इज़ाज़त देंगे? बहरे और गूंगे उम्माह?" पता चलता है कि अकाउंट यह दावा करना चाहता है कि यह घटना भारत में हुई है और वीडियो में एक मुसलमान को दो हिंदू युवतों द्वारा पीटा जा रहा है। यह अकाउंट कुवैत के लोगों से भी सवाल करता है कि क्या उन्हें भारतीयों के साथ अपना कारोबार जारी रखना चाहिए, जो हमारे मुस्लिम भाइयों और बहनों को मारते हैं? इस ट्वीट पर 1115 रीट्वीट, 160 कोट ट्वीट और 1572 लाइक हैं। तथ्यों की जांच: वीडियो के फ्रेम को गूगल पर सर्च करने पर पता चला कि यह वीडियो 21 मई 2021 का है, और यह वीडियो बांग्लादेश का है न कि भारत का। News24 द्वारा अपलोड किया गया वीडियो मामले की गहराई से छानबीन करने पर पता चला कि जमीन पर पड़े व्यक्ति की हत्या करने वाले लोग एक ही धर्म के थे और उन्होंने बांग्लादेश के चटगांव डिवीजन के लक्ष्मीपुर-1 निर्वाचन क्षेत्र के पूर्व विधायक एमए अवल के साथ ज़मीनी विवाद के कारण उसकी हत्या कर दी। इसलिए, @MJALSHRIKA का उपरोक्त दावा भ्रामक है।

फैक्ट चेक: क्या रेस्टोरेंट में मुस्लिम लड़के ने हिंदू महिला को ड्रग देने की कोशिश की थी? जानें सच्चाई

24 अक्टूबर 2021 को, एक वीडियो वारयल होना शुरू हुआ, वीडियो एक रेस्तरां के सीसीटीवी फुटेज जैसा दिखता है। फुटेज में देखा जा सकता है कि पुलिस एक पुरुष और…