Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट-चेक: क्या गुजरात में आरक्षण को पूरी तरह खत्म कर दिया गया?

23 सितंबर, 2021 को रूपेश नाम के एक ट्विटर यूजर ने ट्वीटर पर पोस्ट करके दावा किया कि गुजरात पहला राज्य बना है, जिसने घोषणा की है कि राज्य में जाति आधारित आरक्षण समाप्त कर दिया गया है। उन्होंने उन स्थानों को सूचीबद्ध किया जहां रेलवे, बसों, सरकारी नौकरियों और पदोन्नति सहित सभी नौकरियों में अगले 25 वर्षों तक कोई आरक्षण नहीं होगा।

रूपेश का ट्वीट

हमने ट्विटर पर एक कीवर्ड सर्च किया और पाया कि इसी तरह के सैकड़ों दावे 2016 के हैं। हाल के अधिकांश दावों में टाइम्स ऑफ इंडिया का एक लेख जुड़ा हुआ था।

फैक्ट चेकः

हालांकि सरकारी वेबसाइटों समेत कहीं भी ऐसी कोई खबर नहीं है। हमने इस दावे का प्रमाण खोजने के लिए समाचार पत्रों के अभिलेखागार सहित इंटरनेट पर मौजूद सामग्रियों की जाँच की, लेकिन कुछ भी नहीं मिला। इसके अतिरिक्त, कई उपयोगकर्ताओं द्वारा अपने दावे का समर्थन करने के लिए पोस्ट किया गया लिंक में आरक्षण खत्म होने की जानकारी नहीं मिली।

दावे और पोस्ट किए गए लिंक के बीच लगभग कोई संबंध नहीं है। चूंकि दावे का कोई आधार नहीं है, इसलिए यह दावा फर्जी है।