Digital Forensic, Research and Analytics Center

मंगलवार, अगस्त 9, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमHateचीन में अफ्रीकियों के खिलाफ़ नस्लवाद

चीन में अफ्रीकियों के खिलाफ़ नस्लवाद

Published on

Subscribe us

DFRAC ने दिसम्बर 2021 में शीर्षक “DFRAC विशेषः सोशल मीडिया पर लोगों से वर्चुअल जंग लड़ती है चीनी ट्विटर सेना!” के साथ एक रिपोर्ट पब्लिश की थी। अब यह स्पेशल रिपोर्ट चीनी सोशल मीडिया स्पेस में अफ्रीकियों के खिलाफ़ बढ़ती घृणास्पद पोस्ट से संबंधित है।

चीन में एक बहुत बड़ी मल्टीमीडिया इंडस्ट्री चल रही है जहां वे ग़रीब अफ्रीक़ी बच्चों का इस्तेमाल चीनी भाषा में मज़ेदार (फ़न्नी) वीडियो बनाने के लिए कर रहे हैं और इसके लिए वे उनका शोषण करते हैं, उन्हें पीटते हैं, उन्हें स्कूल नहीं जाने देते हैं जैसा कि बीबीसी डाक्यूमेंट्री (BBC documentary) में दिखाया गया है।

 

यह चीन में अफ्रीक़ियों के खिलाफ़ नफ़रत फैलाने के एक पैटर्न का हिस्सा है। न केवल चीन में अफ्रीकियों को अपमानित किया जाता है, उन पर नस्लीय टिप्पणियां की जाती हैं, उनकी विशेषताओं की तुलना एक जानवर से की जाती है, बल्कि कुछ ग़रीब अफ्रीक़ी महिलाओं का उपयोग अपमानजनक कंटेंट पोस्ट करने के लिए किया जाता है। चीनी सोशल मीडिया में अफ्रीक़ियों के खिलाफ़ अभद्र टिप्पणी, अभद्र पोस्ट और अभद्र भाषा का बोलबाला है।

DFRAC की टीम ने अफ्रीक़ियों के खिलाफ़ सोशल मीडिया में चल रहे नस्लवाद की गहराई से स्टडी की है:

नस्लवादी कंटेंट

  1. चीन में मैकडॉनल्ड्स में अश्वेत लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध

इयान माइल्स चेओंग के वेरीफ़ाईड अकाउंटृ द्वारा एक वीडियो पोस्ट किया गया। इस वीडियो में एक नोटिस देखी जा सकती है, जिसमें स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है कि “अश्वेत लोगों को रेस्तरां में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।”

 

(इयान माइल्स चेओंग के ट्वीट से लिया गया वीडियो)

2. वीबो (Weibo) अफ्रीक़ियों पर नस्लीय टिप्पणियों से भरा हुआ है

ब्रूस (Bruce) नामक ट्विटर अकाउंट से एक फोटो शेयर की गई है, जिसमें देखा जा सकता है कि चीनी अफ्रीक़ियों के बारे में किस तरह की बातें करते हैं।

(तस्वीर ब्रूस के ट्वीट से ली गई है)
  1. अफ्रीक़ियों के प्रति चीन का नस्लवाद भी उनके विज्ञापनों में साफ़ दिखाई देता है

2016 का सबसे नस्लवादी विज्ञापन चीन के एक डिटर्जेंट विज्ञापन ने जीता था, जिसमें दिखाया गया है कि एक काला व्यक्ति डिटर्जेंट का उपयोग करने के बाद सफेद रंग का हो जाता है। आप खुद देखिए, क्या यह RACISM (नस्लवाद) से ज़रा भी कम है?

(वीडियो एजे+ के ट्वीट से लिया गया है)

  1. अफ्रीक़ी विशेषताओं की जानवरों से तुलना

चीन में एक संग्रहालय ने “दिस इज़ अफ्रीक़ा” नामक एक प्रदर्शनी (एग्जीबिशन) लगाई जो अफ्रीक़ियों की तुलना जानवरों से करती है।

(सौजन्य: यूट्यूब चैनल शंघाई )

अपमानजनक कंटेंट

  1. एक वीबो (weibo) अकाउंट, “Jokes about Black people club” (काले लोगों पर चुटकुले का क्लब) अफ्रीक़ियों का वीडियो पोस्ट करता है।

(सौजन्य: Runako Celina)

2020 में, वीबो अकाउंट ने एक वीडियो पोस्ट किया जिसमें अफ्रीक़ी बच्चों के एक ग्रूप ने एक ब्लैकबोर्ड के चारों ओर चक्कर लगाया, जो चीनी भाषा में यह कहने के लिए बनाया गया: ‘मैं एक काला राक्षस हूं, मेरा आईक्यू लो है।’ (‘I’m a Black monster, my IQ is low’)

(सौजन्य: @RFA_Chinese)

ये बच्चे यह भी नहीं जानते कि वे क्या बोल रहे हैं।

चीन में अफ्रीक़ियों ने इंडस्ट्री के बारे में बात रखी थी कि यह वीडियो वर्षों से है – @wode_maya सबसे मुखर रहा।

यह इंडस्ट्री वर्षों से अस्तित्व में था – और यह बहुत बड़ा है। 2017 में वापस, इन वीडियो को लेकर विवादों की एक लहर थी – इसके तुरंत बाद, वे eBay जैसी साइट Taobao से ग़ायब होने लगे, जहां वे उस समय बेचे जा रहे थे।

सौजन्य: @RunakoCelina

अफ्रीकी लड़कियों के प्रति अपमानजनक कंटेंट

सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रही है, जिसमें देखा जा सकता है कि एक चीनी व्यक्ति दो नाइजीरियाई लड़कियों के साथ खड़ा है और उनके साथ छेड़ छाड़ (परेशान) कर रहा है।

साथ ही सोशल मीडिया पर कुछ ट्वीट्स के ज़रिए चीन के लोगों में अफ्रीक़ियों के प्रति नफ़रत की कहानी को साफ़ देखा जा सकता है।

  1. जाम्बिया के छात्र को चीनी नागरिकों ने एक चीनी लड़की को डेट करने के कारण मार डाला

शेयर किए गए वीडियो में चीनी नागरिकों को ग़रीब कहकर छात्र और उसके देश का अपमान करते हुए सुना जा सकता है और वे कह रहे हैं कि वे चीन में अफ्रीक़ियों को पालने की अनुमति नहीं दे सकते।

(सौजन्य:@blackathanblue)

  1. केन्याई लोगों के लिए अलग शौचालय

काम के लिए चीन जाने वाले अफ्रीक़ियों के साथ दुर्व्यवहार किया जाता है, शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया जाता है और अपमानित किया जाता है।

  1. कोरोना वायरस की वापसी के लिए अफ्रीकियों को दोषी ठहराया गया

चीन में केन्याई और अन्य अफ्रीक़ियों को कोरोना वायरस की वापसी के लिए चीन के नागरिकों द्वारा दोषी ठहराया जाता है और उन्हें सुपरमार्केट और सार्वजनिक परिवहन तक पहुंच से वंचित कर दिया जाता है। वे बेचारे मजबूर है कि बिना खाना खाए सड़क किनारे सोएं।

  1. चीन के लोग वीचैट एप्लिकेशन ब्लैक फॉरेनर (काले विदेशी) का अनुवाद करने के लिएN-अक्षरका इस्तेमाल करते हैं

चीन की सबसे लोकप्रिय सोशल मीडिया मैसेजिंग सर्विस, वीचैट एल्गोरिथम ने एन-अक्षर के साथ एक तटस्थ शब्द का अनुवाद किया है, जो आमतौर पर “ब्लैक फॉरेनर” के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला वाक्यांश है।

We Chat

सोशल मीडिया भी ‘एन-वर्ड’ पर बहस से भरा हुआ है।

  1. चीनी टीवी ने मनाया नस्लवाद के साथ नया साल

कई बार लूनर न्यू ईयर शो में नस्लवादी हास्य चित्र दिखाए गए हैं। वर्ष 2018 में, अफ्रीक़ा ने ब्लैकफेस में एक चीनी अभिनेत्री को नकली पोस्टीरियर और सिर पर फलों की एक टोकरी के साथ फ़ीचर किया, जो ये लाइनें कह रही हैं जैसे “चीन ने अफ्रीक़ा के लिए बहुत कुछ किया है” और “मैं चीनी लोगों से प्यार करती हूँ! मुझे चीन पसंद है!” उनके साथ आइवरी कोस्ट पहने एक अभिनेत्री भी थी, जो बंदर के कॉस्ट्यूम में नज़र आ रही थी।

चीनी सोशल मीडिया में अफ्रीक़ियों के खिलाफ़ हो रहे इस नस्लवाद से निपटने के लिए, ताकि यह दुनिया में एक बड़ा मुद्दा न बने। चीनी ट्विटर सेना इस गंदगी को साफ़ करने और चीन में नस्लवाद की आवाज़ उठाने वालों से निपटने के लिए हमेशा तैयार रहती है। जैसे एक अकाउंट है यिन सुरा (Yin Sura), जो ब्रिटेन पर सिर्फ चीन और अफ्रीक़ा के बीच मतभेद लाने के लिए नस्लवाद पर डॉक्यूमेंट्री बनाने का आरोप लगा रहा है।

ब्रिटेन को ब्लेम कर चीन के खिलाफ़ नस्लवादी टिप्पणियों से निपटना

Link

निषकर्ष:

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हमेशा नफ़रत फैलाते हैं और चीन इससे अछूता (या अलग) नहीं है। जबकि अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पारदर्शिता के बारे में बात करते हैं, चीनी सोशल मीडिया पर भारी निगरानी और उसे नियंत्रित किया जाता है, इसलिए चीन इस तरह के लक्षित हमले को रोकने के लिए बेहतर स्थिति में है। अफ्रीक़ियों के खिलाफ़ इस तरह की घृणास्पद टिप्पणियों के प्रति चीनी अधिकारियों का ढुलमुल रवैया वास्तव में बहुत सारे सवाल खड़े करता है।

Popular of this week

Latest articles

फैक्ट चेक: क्या आरएसएस कार्यकर्ता ने जलाया भारत का राष्ट्रीय ध्वज?

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है। जिसमे एक शख्स को भारत...

क्या इंग्लैंड के राजा के गुणगान में लिखा गया था राष्ट्रगान ? पढ़ें, फ़ैक्ट-चेक 

सोशल मीडिया पर राष्ट्रगान को लेकर यूज़र्स द्वारा दावा किया जा रहा है कि...

फैक्ट चेक- तमिलनाडु के ईसाई सीएम MK स्टालिन ने ढहाया शिव मंदिर? 

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में...

फैक्ट चेक: जगदीप धनखड़ देश के 16वें नहीं बल्कि 14वें उपराष्ट्रपति बने, पत्रिका ने चलाई गलत ख़बर

देश के प्रमुख राष्ट्रीय समाचार पत्रों में से एक पत्रिका ने जगदीप धनखड़ को...

all time popular

More like this

फैक्ट चेक: क्या आरएसएस कार्यकर्ता ने जलाया भारत का राष्ट्रीय ध्वज?

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है। जिसमे एक शख्स को भारत...

क्या इंग्लैंड के राजा के गुणगान में लिखा गया था राष्ट्रगान ? पढ़ें, फ़ैक्ट-चेक 

सोशल मीडिया पर राष्ट्रगान को लेकर यूज़र्स द्वारा दावा किया जा रहा है कि...

फैक्ट चेक: जगदीप धनखड़ देश के 16वें नहीं बल्कि 14वें उपराष्ट्रपति बने, पत्रिका ने चलाई गलत ख़बर

देश के प्रमुख राष्ट्रीय समाचार पत्रों में से एक पत्रिका ने जगदीप धनखड़ को...

फैक्ट चेकः हिन्दूओं ने गांव में बसाया था 1 मुस्लिम, अब मुस्लिम बाहुल्य हुआ गांव, हिन्दू कर गए पलायन?

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रहा है। इस पोस्ट को...

पैगंबर मुहम्मद की आड़ में भारत विरोधी एजेंडे का अंतर्राष्ट्रीय अभियान

पैगंबर मुहम्मद (ﷺ) का इस्लाम धर्म में अल्लाह के बाद सर्व्वोच स्थान है। दुनिया...

फैक्ट चेक: ‘ब्लादिमीर पुतिन बोले – POK खाली करो!’ जानिए – सच्चाई

सोशल मीडिया पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के नाम से एक पोस्ट बड़ी...