Digital Forensic, Research and Analytics Center

गुरूवार, अगस्त 18, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkफैक्ट चेक: अटलांटिक ने जज क्लीयरेंस थॉमस पर नस्लवादी हेडलाइन प्रकाशित की?

फैक्ट चेक: अटलांटिक ने जज क्लीयरेंस थॉमस पर नस्लवादी हेडलाइन प्रकाशित की?

Published on

Subscribe us

अमेरिका में इन दिनों गर्भपात पर विवाद गहराया हुआ है। अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने रो बनाम वेड (Roe v Wade) केस में किसी भी प्रकार के गर्भपात को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया है। इस फैसले के बाद अब अमेरिका में किसी भी उम्र की कोई भी लड़की या महिला किसी भी कारण से हुए अनचाहे गर्भ से अब मुक्ति नहीं पा सकती है। यह फैसला बलात्‍कार या फिर अनचाहे तरीके से थोपे गए इंसेस्‍ट (पारिवारिक खून के संबंधों) से या फिर अन्य किसी वजह से हुए गर्भ पर भी लागू होगा।

कोर्ट के इस फैसले के बाद अमेरिकी में विवाद काफी गहरा गया है। कई लोग इसके फैसले के खिलाफ खड़े हो गए हैं। लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर प्रदर्शन भी किया है। वहीं सोशल मीडिया पर इस फैसले के पक्ष में वोट करने वाले जजों के खिलाफ भी लोगों ने अभियान छेड़ रखा है। कई लोग जजों के इस फैसले की आलोचना कर रहे हैं। गर्भपात को प्रतिबंधित करने के पक्ष में वोट करने वाले जज क्लैरेंस थॉमस पर भी सवाल उठ रहे हैं। लोगों का कहना है कि उन पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगे हैं।

वहीं ऑनलाइन प्रकाशित होने वाली वेबसाइट द अटलांटिक का स्क्रीन शॉट भी वायरल हो रहा है। इस स्क्रीन शॉट में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस क्लैरेंस थॉमस के बारे में प्रकाशित एक नस्लवादी शीर्षक है। शीर्षक में लिखा है: “इट्स नॉट रेसिस्ट टू कॉल जज क्लेरेंस थॉमस द एन-वर्ड।”

सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने अलग-अलग कैप्शन के साथ इस स्क्रीन शॉट को शेयर किया। एक फेसबुक यूजर लिखता है, “एक तथाकथित अमेरिकी अखबार से।” (हिन्दी अनुवाद)

एक ट्विटर यूजर ने लिखा- ”सहिष्णु’ वामपंथी सिर्फ उन्हीं के प्रति सहिष्णु हैं जो उनसे सहमत हैं. लाइन से हटकर और वामपंथ का वास्तविक स्वरूप खुद को प्रस्तुत करता है।”

फैक्ट चेक:

हमने इसकी पड़ताल के अटलांटिक की आधिकारिक वेबसाइट की छानबीन की। इस दौरान वेबसाइट पर कुछ भी नहीं मिला। साथ ही, अटलांटिक के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ऐसी कोई तस्वीर भी पोस्ट नहीं की गई थी। इसलिए वायरल हो रहा स्क्रीन शॉट फेक है।

निष्कर्ष:

अटलांटिक ने एक नस्लवादी शीर्षक प्रकाशित नहीं किया है। इसलिए सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा किया जा रहा दावा भ्रामक है।

Claim Review: द अटलांटिक ने जज क्लैरेंस थॉमस पर एक नस्लवादी शीर्षक प्रकाशित किया।

Claimed by: सोशल मीडिया यूजर्स।

फैक्ट चेक: फेक

- Advertisement -

भारत माता का ताज हटाकर पहना दिया हिजाब?

Load More

Popular of this week

Latest articles

ट्रेन से यात्रा करने पर अब 1 साल बच्चे का भी लगेगा पूरा किराया? पढ़ें- फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर ‘दैनिक जागरण’ की वेबसाइट पर छपी एक न्यूज का स्क्रीन शॉट...

मुस्लिम युवक ने किया तिरंगे का अपमान, तिरंगा लगा रहे भगवाधारियों से की हाथापाई? पढ़ें- फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में...

भारत माता का ताज हटाकर पहना दिया हिजाब? सुदर्शन न्यूज़ ने किया भ्रामक दावा, पढ़ें- फ़ैक्ट चेक

15 अगस्त को आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर “आज़ादी के अमृत महोत्सव” का विशाल...

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने किया शहीद मंगल पांडेय का अपमान? पढ़ें- फैक्ट चेक

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से...

all time popular

More like this

ट्रेन से यात्रा करने पर अब 1 साल बच्चे का भी लगेगा पूरा किराया? पढ़ें- फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर ‘दैनिक जागरण’ की वेबसाइट पर छपी एक न्यूज का स्क्रीन शॉट...

मुस्लिम युवक ने किया तिरंगे का अपमान, तिरंगा लगा रहे भगवाधारियों से की हाथापाई? पढ़ें- फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में...

भारत माता का ताज हटाकर पहना दिया हिजाब? सुदर्शन न्यूज़ ने किया भ्रामक दावा, पढ़ें- फ़ैक्ट चेक

15 अगस्त को आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर “आज़ादी के अमृत महोत्सव” का विशाल...

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने किया शहीद मंगल पांडेय का अपमान? पढ़ें- फैक्ट चेक

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से...

ट्रिपल तलाक़ का फ़ैसला 5 अगस्त को नहीं, 22 अगस्त को आया था, पढ़ें फ़ैक्ट-चेक

सोशल मीडिया पर पांच अगस्त की तारीख़ के हवाले से कई दावे किये जाते...

फैक्ट चेकः राजस्थान के जालौर में शिक्षक द्वारा दलित छात्र की पिटाई के वायरल वीडियो की सच्चाई

राजस्थान के जालौर जिले की सुराणा गांव में एक दर्दनाक घटना घटी। 8 वर्षीय...