Digital Forensic, Research and Analytics Center

बुधवार, जून 29, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkफैक्ट चेक: क्या दलाई लामा ने कहा, श्वेत मुल्कों से अश्वेत लोगों...

फैक्ट चेक: क्या दलाई लामा ने कहा, श्वेत मुल्कों से अश्वेत लोगों को निकाल देना चाहिए?

Published on

Subscribe us

तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा के बारे में सीएनएन के एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट बड़ी संख्या में वायरल हो रहा है।

 

वायरल स्क्रीनशॉट में लिखा है कि “दलाई लामा ने आप्रवास और राष्ट्रीयता पर श्वेत राष्ट्रवादी बातों को कहने के बाद, निंदा का कारण बनते हुए विवाद को जन्म दिया। एक जुझारू बातचीत में, बुजुर्ग भिक्षु ने सुझाव दिया कि तथाकथित, “श्वेत देशों” को गैर-श्वेत लोगों (sic) को निष्कासित करने का अधिकार था।

फैक्ट चेक:

वायरल स्क्रीनशॉर्ट में किए गए दावे की पड़ताल करने के लिए सबसे पहले हमने सीएनएन के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से 9 मई को किए गए सभी ट्वीट देखे। लेकिन हमें दलाई लामा से जुड़ा ऐसा कोई ट्वीट नहीं मिला।

 

वहीं इस बारे में जब हमने गूगल पर सर्च किया तो हमने 2018 में, स्वीडन के माल्मो शहर में शरणार्थियों के बारे में दिया गया दलाई लामा का एक बयान मिला। जिसमे उन्हे यह कहते हुए सुना जा सकता है कि अन्य देश खतरे का सामना करने वाले शरणार्थियों की मदद करने के लिए “नैतिक रूप से जिम्मेदार” थे, लेकिन उन्हें अंततः अपने देशों के पुनर्निर्माण के लिए वापस लौटना चाहिए। “यूरोप यूरोपीय लोगों का है।”

इसके अलावा एक अन्य बयान में वह कहते है कि “अल्पावधि में, यूरोपीय देशों को उन्हें आश्रय प्रदान करना चाहिए, और विशेष रूप से युवाओं के लिए यांत्रिक प्रशिक्षण सहित शिक्षा और प्रशिक्षण के लिए बच्चों को सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए। उद्देश्य यह है कि वे अंततः अपने देशों के पुनर्निर्माण के लिए लौटने में सक्षम हों।”

साथ ही 2020 में उन्होने टाइम को दिये इंटरव्यू में कहा था कि नस्लीय अन्याय से लड़ने की जिम्मेदारी “लोगों” की है।

निष्कर्ष:

दावा समीक्षा: दलाई लामा ने कहा, श्वेत मुल्कों से अश्वेत लोगों को निकाल देना चाहिए।

दावाकर्ता: सोशल मीडिया यूज़र्स

फैक्ट चेक: फेक

 

 (आप #DFRAC को ट्विटरफ़ेसबुकऔर यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।)

Dilshad Noor
Dilshad Noor
Mr. Dilshad Noor is a research fellow at DFRAC with experience of 8 years in the field of journalism He has done his bachelor's in journalism from VMOU, Kota. He has done MA and LLB from the University of Kota. He specializes in report making and research analysis.

Popular of this week

Latest articles

BJP सांसद का बयान- गांधी जी ने करवाई थी सुभाष चंद्र बोस की हत्या!, जानें- क्या है फैक्ट?

सोशल मीडिया पर राजस्थान के झूंझनू से बीजेपी सांसद नरेंद्र कुमार खीचड़ का एक...

शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ‘दारू पीकर’ मीडिया से रूबरू हुए? पढ़ें- फ़ैक्ट-चेक

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो के माध्यम से...

फैक्ट चेक: फीफा वर्ल्ड कप-2022 के थीम सॉन्ग का फेक वीडियो वायरल

सोशल मीडिया साइट्स पर एक म्यूजिकल वीडियो वायरल हो रहा है। इस गाने को शेयर...

कश्मीरियों को आजादी के बाद से अब तक मिलती थी मुफ्त बिजली?, पढ़ें- फैक्ट चेक

कश्मीर को लेकर कई सोशल मीडिया यूजर्स पोस्ट शेयर कर रहे हैं। इस पोस्ट...

all time popular

More like this

BJP सांसद का बयान- गांधी जी ने करवाई थी सुभाष चंद्र बोस की हत्या!, जानें- क्या है फैक्ट?

सोशल मीडिया पर राजस्थान के झूंझनू से बीजेपी सांसद नरेंद्र कुमार खीचड़ का एक...

शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ‘दारू पीकर’ मीडिया से रूबरू हुए? पढ़ें- फ़ैक्ट-चेक

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो के माध्यम से...

फैक्ट चेक: फीफा वर्ल्ड कप-2022 के थीम सॉन्ग का फेक वीडियो वायरल

सोशल मीडिया साइट्स पर एक म्यूजिकल वीडियो वायरल हो रहा है। इस गाने को शेयर...

कश्मीरियों को आजादी के बाद से अब तक मिलती थी मुफ्त बिजली?, पढ़ें- फैक्ट चेक

कश्मीर को लेकर कई सोशल मीडिया यूजर्स पोस्ट शेयर कर रहे हैं। इस पोस्ट...

फ़ैक्ट चेक: पाकिस्तान में बाइकर्स के धड़ा धड़ गिरने का वीडियो भारत का बताकर वायरल

सोशल मीडिया साइट्स पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में देखा...

फैक्ट चेक: मरमेड के वायरल वीडियो के पीछे की सच्चाई क्या है?

मरमेड का एक वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर खूब शेयर किया जा रहा है।...