Digital Forensic, Research and Analytics Center

सोमवार, जून 27, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkफैक्ट चेकः क्या अलवर के बाद जयपुर में ढहाया गया 300 साल...

फैक्ट चेकः क्या अलवर के बाद जयपुर में ढहाया गया 300 साल पुराना मंदिर?

Published on

Subscribe us

राजस्थान इन दिनों सोशल मीडिया और मेनस्ट्रीम मीडिया में चर्चा का विषय बना हुआ है। पिछली कई घटनाएं ऐसी हैं, जिनकी चर्चा पूरे देश में हो रही है। राजस्थान की करौली के बाद जोधपुर में हिंसा और टकराव की खबरें आई हैं। वहीं अलवर के राजगढ़ में 300 साल पुराने शिव मंदिर गिराए जाने का विवाद भी काफी तूल पकड़ा था। जिसके बाद बीजेपी और कांग्रेस एक दूसरे पर हमलावर हो गए हैं।

इन विवादों के बाद सोशल मीडिया पर तमाम फर्जी और फेक समाचारों की बाढ़ आ गई है।  सोशल मीडिया यूजर्स एक तस्वीर को शेयर करके दावा कर रहे हैं कि अब राजस्थान की राजधानी जयपुर में भी 300 साल पुराने मंदिर को तोड़ दिया गया। इस तस्वीर में देखा जा सकता है कि एक जेसीबी से मंदिर को गिराया जा रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स इसके लिए राजस्थान की कांग्रेस सरकार को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।

फेसबुक पर उमाकांत पांडेय नाम के यूजर ने लिखा- “इसे कहते हैं सरकार.. तीन सौ साल पुराना कागज राजस्थान सरकार ने खोज ही निकाला और पाया कि अलवर का यह शिवमंदिर जमीन पर अतिक्रमण करके बनाया गया था। कल उसे ढहा दिया गया। इधर कुछ लोग महज पचास साठ साल पुराना कागज नहीं खोज पा रहे हैं.. और उन्हें सीधा कोर्ट जाना पड़ रहा है.. खैर.. सरकार का जैसा मुड दिख रहा है उससे लगता है… कागज तो दिखाना पड़ेगा ही.. अगर तीन सौ साल पुराना कागज मिल गया तो पचास साठ साल पुराना कैसे नहीं मिलेगा..।”

 

वहीं फेसबुक पर श्रीकांत भालेराव नाम के यूजर ने लिखा- “कांग्रेस सरकार में 300 साल पुराने मंदिर को अतिक्रमण का हवाला देकर तोड़ा गया। कांग्रेस का हिन्दू विरोधी चेहरा बेनकाब।”

https://www.facebook.com/photo?fbid=10209216278201547&set=a.1984882319242

फैक्ट चेकः

वायरल हो रहे तस्वीर को गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें ‘आज तक’ की वेबसाइट पर प्रकाशित एक न्यूज मिली। इस न्यूज को 14 जून 2015 को शाम 6 बजकर 43 मिनट पर प्रकाशित किया गया था। इस खबर को शीर्षक- “जयपुर मेट्रो के विस्तार की खातिर ढहा दिए 200 साल पुराने मंदिर” दिया गया है।

निष्कर्षः

इस फैक्ट से साबित होता है कि सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा किया जा रहा दावा झूठा और भ्रामक है। साथ ही ‘आज तक’ पर प्रकाशित खबर से दो फैक्ट सामने आ रहा है-

पहला शिव मंदिर को जमीन अतिक्रमण के नाम पर नहीं तोड़ा गया बल्कि जयपुर में मेट्रो के लिए तोड़ा गया था।

दूसरा 2015 में कांग्रेस की अशोक गहलोत की सरकार नहीं बल्कि वसुंधरा राजे के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार थी।

 

दावाअलवर के बाद जयपुर में तोड़ा गया 300 साल पुराना शिव मंदिर

दावाकर्तासोशल मीडिया यूजर्स

फैक्ट चेकझूठा और भ्रामक

Popular of this week

Latest articles

फैक्ट चेक: मरमेड के वायरल वीडियो के पीछे की सच्चाई क्या है?

मरमेड का एक वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर खूब शेयर किया जा रहा है।...

फैक्ट चेकः कोड़े की मार खाते यह तस्वीर भगत सिंह की नहीं है, भ्रामक दावा हो रहा वायरल

सोशल मीडिया पर फोटो वायरल हो रही है। यह फोटो ब्लैक एंड व्हाइट है।...

उद्धव ठाकरे ने मुगल बादशाह औरंगजेब की तारीफ की?, पढ़ें- फैक्ट चेक

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का एक वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर वायरल हो...

all time popular

More like this

फैक्ट चेक: मरमेड के वायरल वीडियो के पीछे की सच्चाई क्या है?

मरमेड का एक वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर खूब शेयर किया जा रहा है।...

फैक्ट चेकः कोड़े की मार खाते यह तस्वीर भगत सिंह की नहीं है, भ्रामक दावा हो रहा वायरल

सोशल मीडिया पर फोटो वायरल हो रही है। यह फोटो ब्लैक एंड व्हाइट है।...

उद्धव ठाकरे ने मुगल बादशाह औरंगजेब की तारीफ की?, पढ़ें- फैक्ट चेक

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का एक वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर वायरल हो...

फ़ैक्ट चेक: बाल ठाकरे की आनंद दिघे को तिलक लगाने वाली तस्वीर एकनाथ शिंदे की बताकर वायरल

महाराष्ट्र में सियासी उथल पुथल मची हुई है। शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व...

महाराष्ट्र में शिवसेना और NCP कार्यकर्ताओं के बीच हुई हाथापाई और मारपीट?, पढ़ें- फैक्ट चेक

महाराष्ट्र में शिवसेना अपने विधायकों की बगावत से जूझ रही है। पार्टी के कई...