Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट-चेक: क्या मंदिर में शराब का सेवन करने वाला पुजारी ईसाई है?

एक पुजारी की शराब पीते हुए तस्वीर ट्विटर पर वायरल हो रही है. यूजर्स दावा कर रहे हैं कि जब से स्टालिन सरकार सत्ता में आई है, सरकार ने इस पुजारी को नियुक्त किया है। वही तस्वीरें सभी यूजर्स द्वारा शेयर की जा रही हैं। यह खबर तब से वायरल हो रही है जब से स्टालिन सरकार ने सभी जातियों के 208 व्यक्तियों को मंदिरों में नियुक्त करने का आदेश दिया था। इसको लेकर पुजारी की तस्वीरें शेयर की जा रही हैं|

तथ्यों की जांच:

हमने गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च किया और हमें उसी व्यक्ति का एक यूट्यूब वीडियो मिला, जिसे 2017 में पोस्ट किया गया था। शंकर नामी वह व्यक्ति खुद को चेन्नई के कोडदबक्कम का रहने वाला बताता है, नाम से ही ज़ाहिर हो रहा है कि वह ईसाई नहीं है।

चूंकि यह वीडियो 2017 में पोस्ट किया गया था, स्पष्ट रूप से स्टालिन की सरकार के सत्ता में आने से पहले, इसलिये इस तस्वीर को लेकर जो दावा किया जा रहा है वह फर्जी है।