Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

मोदी सरकार की आवास योजना की “पोस्टर वुमन” से जानिए कड़वी सच्चाई

14 और 25 फरवरी 2021 को प्रभात खबर और सनमर्ग जैसे अखबारों में पीएम मोदी के आवास योजना के बारे में एक विज्ञापन छपा था। इस विज्ञापन ने अखबारों के आधे पन्ने पर प्रधानमंत्री मोदी और एक महिला को प्रमुखता से छापा। बंगाली भाषा में छपे इन विज्ञापनों का अनुवाद है कि 24 लाख परिवारों को आवास योजना का लाभ मिला है। दावा है कि इस महिला को भी आवास योजना से लाभान्वित किया गया है।

इस विज्ञापन में टैगलाइन “आत्मानबीर भारत, आत्मानिर्भर बंगाल” शब्द भी लिखे गए हैं।

वहीं विज्ञापन में दिखने वाली महिला के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई थी। न्यूज़लॉन्ड्री ने वास्तव में यह पता लगाया कि महिला कहां रहती है, और यह पुष्टि करने के लिए उससे मिलने गई कि क्या विज्ञापन द्वारा किया गया दावा सही है।

विज्ञापन में दिखाई देने वाली महिला 48 वर्षीय लक्ष्मी देवी है, जिसे इस बात का अंदाजा नहीं था कि उसकी तस्वीर का इस्तेमाल विज्ञापन में किया जाएगा। विज्ञापन प्रकाशित होने के बाद ही उन्हें इस बारे में पता चला। उनके अनुसार, उन्होंने समाचार पत्रों के कार्यालयों का दौरा भी किया, ताकि उन्हें जवाब मिल सके कि उन्होंने उनकी अनुमति के बिना उनकी छवि का इस्तेमाल कैसे किया, लेकिन उनके द्वारा बताया गया कि विज्ञापन भारत सरकार द्वारा प्रकाशित किया गया था। वह इस बात से अनजान थी कि किसने उसकी तस्वीरें लीं।

फिर लक्ष्मी बताती हैं कि उन्हें आवास योजना से कोई घर नहीं मिला और वह अपने परिवार के 5 सदस्यों के साथ किराए के एक कमरे में रहती हैं। वह अपनी जगह के किराए के रूप में 500 रुपये भी देती हैं।

साक्षात्कार में, लक्ष्मी भावुक हो जाती हैं और अपनी कठिनाई के बारे में बात करती हैं। वह बताती हैं कि सरकार घर पर उचित स्वच्छता और रसोई गैस जैसी बुनियादी जरूरतों को भी पूरा करने में विफल रही है। वह अपने पति की मृत्यु के बाद से रोजगार के लिए संघर्ष करती हैं और उसके बच्चे भी इसी तरह की चिंताओं से पीड़ित हैं।

वह दोहराती रहती है कि तस्वीर उनकी जानकारी के बिना ली गई थी और इससे उन्हें और भी दुख हुआ।

नागरिकों पर किसी योजना के प्रभाव का आंकलन करते समय ऐसी जानकारी को प्रकाश में लाना अत्यंत महत्वपूर्ण है। पीएम मोदी ने हाल ही में दावा किया है कि इस योजना के तहत 80% घर महिलाओं के हैं। लक्ष्मी देवी जैसी घटनाओं को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है जब इस तरह के गंभीर और बड़े दावे किए जाते हैं।