Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

साम्प्रदायिक एंगल देने वाला कोई भी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो जाता है

25 जुलाई को, “गोमाता गौ सेवा ट्रस्ट” नामक फेसबुक पेज ने एक वीडियो पोस्ट किया। इस वीडियो में एक भैंस लोगों की ओर भागती हुई दिखती है, जिसके बाद लोगों की ओर से गोली चलाई जाती है।

इस वीडियो को फेसबुक पर 2,00,000 बार देखा जा चुका है और इसे 1,400 लोगों ने लाइक और लगभग इतने ही लोगों ने शेयर किया है। इस वीडियो को पोस्ट करते हुए पेज एडमिन द्वारा भड़काऊ कैप्शन लिखा गया है। कैप्शन में लिखा है “एक जानवर के लिए इतने हथियार निकल सकते है तो सोचो जब लड़ाई धर्म पर होगी तो क्या होगा? इसलिए मोबाइल फ़ोन छोड़ कर के घर में एक एक हथियार जरूर रखें , विडीयो चाहे कही की भी हो, लेकिन ये लोग शांतिदूत है ज़रा विचार करो इस विडीयो को देखकर अगर हिन्दू एक नहीं हुए तो ये समय दूर नहीं, भारत को जल्दी ही हिन्दू रास्ट्र घोषित करो।”

वीडियो का आर्काइव लिंक

वीडियो का कमेंट सेक्शन मुस्लिम समुदाय के खिलाफ नफरती टिप्पणियों से भरा पड़ा है। जबकि कमेंट करने वालों को को यह भी मालूम नहीं कि वीडियो कहां का है। वीडियो पर अधिकांश टिप्पणियां हिंदुओं को एक साथ आना का आह्वान करने वाली हैं।
यह भी ध्यान देने योग्य है कि गौ सेवा ट्रस्ट पेज फेसबुक पर ब्लू टिक है, यानी फेसबुक ने उसे वेरीफाइड किया हुआ है। इसके लगभग 50,00,000 फॉलर्वस हैं।

अन्य संस्कृतियों के प्रति घृणा और पूर्ण अवहेलना का जानबूझकर संदेश

हमने वीडियो को पड़ताल करने के लिये वीडियो के की-फ्रेम्स को रिवर्स सर्च किया कि वीडियो कहां का है। हमने पाया कि वीडियो पाकिस्तान का है, जहां एक भैंस को जिब्ह करने के दौरान भाग गई थी। साथ ही यह भी पाया कि वीडियो पाकिस्तान के कराची का है, जब एक भैंस जिब्ह होने के दौरान भीड़ और शोर से भड़क गई थी। इसलिये भैंस द्वारा उत्पात रोकने के लिए उसे गोली मार दी गई थी। इसकी रिपोर्ट पाकिस्तान के कुछ मीडिया संस्थानों में भी प्रकाशित हुई थी।

भैंस को गोली मारने की घटना के बाद नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया था। हालाँकि, हम यहां जिसकी ओर पाठकों को ध्यान आकर्षित कराना चाहते हैं, वह गौ रक्षक पृष्ठ है। यह पृष्ठ सुझाव देता है कि गाय या भैंस का वध जो भारत में नहीं हो रहा है, उसे भी रोका जाना चाहिए क्योंकि यह उनके धर्म के खिलाफ है। पेज मूल रूप से हर क्षेत्र को हिंदू राष्ट्र में बदलने का आह्वान करता है ताकि उनकी धार्मिक भावनाओं को कभी ठेस न पहुंचे।
इस तरह की असहिष्णुता शर्मनाक है। पेज का कमेंट सेक्शन हैरान करने वाला है, यहां तक कि जब किसी ने बताया कि यह वीडियो पाकिस्तान का है, तो अन्य लोग उस पर भड़क पड़े और कहा कि यह कहीं भी हो रहा है, यह गलत है। इसके साथ ही एक और विडंबना यह है कि वीडियो में नफरत का इतना स्पष्ट संदेश होने के बावजूद फेसबुक ने इस पेज को वेरीफाइड करके ब्लू टिक दिया हुआ है।
इस तरह के वीडियो भारत के धर्मनिरपेक्ष ढ़ांचे को कमज़ोर करते हैं। इस तरह की सामग्री विभिन्न समुदायों के बीच हिंसक विवाद का कारण बन जाती है। इस वीडियो का मकसद सिर्फ नफरत और असहिष्णुता फैलाना है।