Digital Forensic, Research and Analytics Center

रविवार, जनवरी 29, 2023
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkफैक्ट-चेक: क्या महाराष्ट्र में बंदरों ने बदले के लिए मार डाले 200...

फैक्ट-चेक: क्या महाराष्ट्र में बंदरों ने बदले के लिए मार डाले 200 कुत्ते के पिल्ले

Published on

Subscribe us

हाल ही में नेशनल और इंटेरनेशनल मीडिया में एक खबर छाई रही। जिसमे दावा किया गया कि भारत के महाराष्ट्र में बंदरों ने बदला लेने के लिए 200 कुत्ते के पिल्ले मार डाले। इस खबर पर भारत सहित विदेशों में भी कई बड़े अखबारों ने अपनी रिपोर्ट प्रकाशित की। जिसमे दी न्यूयार्क पोस्ट, दी गार्जियन, एएनआई, न्यूज़ 18 आदि शामिल है।

इंगलिश मीडिया की रिपोर्ट
हिन्दी मीडिया की रिपोर्ट

इस खबर में दावा किया गया कि कैसे इन बंदरों ने गाँव में कुत्तों को मार डाला। रिपोर्ट में कहा गया, लावुल मराठवाड़ा के बीड ज़िले के मजलगांव तहसील में बंदर कुत्तो को देखते ही उन पर हमला कर देते है। बंदरों के इस हमले में 200 से ज्यादा कुत्ते के पिल्ले मारे गए।

फैक्ट चेक:

बीबीसी की रिपोर्ट

इन रिपोर्ट में किया गया दावा झूठा पाया गया है। स्थानीय वन अधिकारी सचिन कांड ने बताया कि बंदरों के हमले में कुत्ते के पिल्लो की हत्या को नकारते हुए कहा कि गांव में लगभग 50 पिल्ले भूख से मर गए हैं।  वन अधिकारी ने दावा किया कि जानवरों में बदला लेने की भावना नहीं होती है। “वे सिर्फ एक दूसरे से लड़ते हैं क्योंकि वे जानवर हैं, यही उनकी प्रवृत्ति है।”  उन्होने ये भी कहा कि मरने वाले पिलो की संख्या भी बढ़ा-चढ़ाकर बताई गई। जो निराधार है।

वहीं ग्राम पंचायत समिति के सदस्य रवींद्र शिंदे ने बीबीसी को बताया, “गांव में बहुत बंदर नहीं हैं, कभी-कभी आते थे लेकिन ज़्यादा परेशान नहीं करते थे। लेकिन इस बार बंदरों के आने के बाद गांव में विचित्र घटनाएं देखने को मिलीं।” इन बंदरों ने पिल्लों को उठाया और उन्हें पेड़ों या ऊंचे घरों में ले गए। पहले तो ग्रामीणों को ज़्यादा समझ नहीं आया, लेकिन फिर उन्होंने देखा कि बंदर धीरे-धीरे पिल्लों को लेकर भाग रहे हैं।

बंदर जिन पिल्लों को पेड़ या ऊंचे घरों पर ले गए, उनमें से कुछ ऊपर से गिर पड़े और गिरने से उनकी मौत हो गई। यहीं से अफ़वाह फैलने लगी कि बंदर पिल्लों को मार रहे हैं और ये बात फैलती गई।

अत: उपरोक्त जांच और विश्लेषण में पाया गया कि ये खबर झूठी और भ्रामक है।

- Advertisement -[automatic_youtube_gallery type="channel" channel="UCY5tRnems_sRCwmqj_eyxpg" thumb_title="0" thumb_excerpt="0" player_description="0"]
Dilshad Noor
Dilshad Noor
Mr. Dilshad Noor is a research fellow at DFRAC with experience of 8 years in the field of journalism He has done his bachelor's in journalism from VMOU, Kota. He has done MA and LLB from the University of Kota. He specializes in report making and research analysis.

Popular of this week

Latest articles

DFRAC विशेषः सुदर्शन न्यूज का पत्रकार है भ्रामक सूचनाओं का ‘सागर’ 

जर्मनी में हिटलर के मंत्री जोसेफ गोएबल्स के बारे कहा जाता है कि वह...

फैक्ट चेक: क्या रूसी राष्ट्रपति पुतिन पूर्व पाक पीएम इमरान खान पर लिखी किताब पढ़ रहे? जानिए वायरल तस्वीर का सच

सोशल मीडिया पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तस्वीर बड़ी वायरल हो रही...

बागेश्वर बाबा करेंगे कथावाचक जया किशोरी से शादी? पढ़ें, फ़ैक्ट-चेक

बागेश्वर धाम के बाबा धीरेन्द्र शास्त्री को लेकर मीडिया और सोशल मीडिया में चर्चाएं...

75% हिन्दू वोटर वाली सीट से जीते TMC नेता शौकत अली ने रूकवाई दुर्गा विसर्जन?, पढ़ें- फैक्ट चेक 

सोशल मीडिया पर एक ग्राफिकल पोस्टर वायरल हो रहा है। इस पोस्टर में पश्चिम...

all time popular

More like this

DFRAC विशेषः सुदर्शन न्यूज का पत्रकार है भ्रामक सूचनाओं का ‘सागर’ 

जर्मनी में हिटलर के मंत्री जोसेफ गोएबल्स के बारे कहा जाता है कि वह...

फैक्ट चेक: क्या रूसी राष्ट्रपति पुतिन पूर्व पाक पीएम इमरान खान पर लिखी किताब पढ़ रहे? जानिए वायरल तस्वीर का सच

सोशल मीडिया पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तस्वीर बड़ी वायरल हो रही...

बागेश्वर बाबा करेंगे कथावाचक जया किशोरी से शादी? पढ़ें, फ़ैक्ट-चेक

बागेश्वर धाम के बाबा धीरेन्द्र शास्त्री को लेकर मीडिया और सोशल मीडिया में चर्चाएं...

75% हिन्दू वोटर वाली सीट से जीते TMC नेता शौकत अली ने रूकवाई दुर्गा विसर्जन?, पढ़ें- फैक्ट चेक 

सोशल मीडिया पर एक ग्राफिकल पोस्टर वायरल हो रहा है। इस पोस्टर में पश्चिम...

Boycott Gang now shifting the focus by releasing misleading Pathan review videos- Read Fact Check

Shahrukh Khan and Deepika Padukone’s starrer movie Pathan was released on the 25th of...

फेक न्यूज पेडलर तारिक फतह ने फिर चलाई भ्रामक खबर – पढ़ें फैक्ट चेक

पाकिस्तानी मूल के कनाडाई नागरिक और पत्रकार तारिक फतह अक्सर सोशल मीडिया पर फर्जी...