Digital Forensic, Research and Analytics Center

सोमवार, अगस्त 8, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkक्या एलपीजी सिलेंडर भारत में सबसे सस्ता है? जानिए, केंद्रीय मंत्री हरदीप...

क्या एलपीजी सिलेंडर भारत में सबसे सस्ता है? जानिए, केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी के दावे की हक़ीक़त

Published on

Subscribe us

भारत के पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस, आवास और शहरी मामलों के केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट किया,“ #ModiGovt की  ‘सिटीज़न फ़र्स्ट’ नीतियों के परिणामस्वरूप भारत में रसोई गैस की कीमत में वृद्धि वैश्विक स्तर की तुलना में काफी कम है। दुनिया भर में रसोई गैस की कीमतें इनपुट लागत में वृद्धि के कारण बढ़ी हैं।”

इसके अलावा, उन्होंने विभिन्न देशों के एलपीजी सिलेंडर की कीमतों को दर्शाने वाली एक ग्राफ़िकल टेबल शेयर किया है। तस्वीर में, भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, नेपाल, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और कनाडा में गैस की कीमतें दर्शाई गई हैं और मोटे मोटे अक्षरों में लिखा हुआ है कि भारत में एलपीजी की कीमतें दुनिया में सबसे कम हैं।

उनका यह ट्वीट सैकड़ों रीट्वीट के साथ वायरल हो गया। इसके अलावा, ज़ी न्यूज़ ने अपने शो डीएनए में भी इस दावे की सराहना की।

फ़ैक्ट चेक

पुरी का ट्वीट विभिन्न देशों में कीमतों की तुलना करने के कारण कई सवालों को जन्म देता है। यदि क्रय क्षमता, प्रति व्यक्ति आय और मुद्रास्फीति (मंहगाई) जैसे कारकों को ध्यान में रखा जाए तो ऐसी तुलनाओं की कोई प्रासंगिकता नहीं है। इस हवाले से न्यूज़क्लिक के यूट्यूब चैनल पर हमें एक वीडियो मिला जिसमें कीमतों को मापने के मापदंडों को खूबसूरती से समझाया गया है।

इसके अलावा उनके अनुसार भारत की प्रति व्यक्ति मासिक आय रु. 15,152 है, जबकि सिलेंडर की कीमत रु. 1,053 है। इसका मतलब यह है कि भारत में एक व्यक्ति औसतन अपनी मासिक आय का 7% सिलेंडर पर खर्च कर रहा है। वहीं अमेरिका में एक व्यक्ति अपनी मासिक आय का 0.19% सिलेंडर खरीदने पर खर्च कर रहा है। इसी तरह, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में एक व्यक्ति अपनी मासिक आय का 0.32% ही सिलेंडर खरीदने पर खर्च कर रहा है। भारत अभी भी पाकिस्तान और नेपाल से बेहतर है लेकिन इसे शायद ही कोई उपलब्धि कहा जा सकता है।

मतलब सिलेंडर की क़ीमत भारत में एक औसत व्यक्ति की जेब पर बहुत भारी है। आइए! इसे सरल भाषा में दो दोस्तों A और B के उदाहरण से समझते हैं। वे दोनों किराए पर रहते हैं और कमरे का किराया 10,000 रुपये का भुगतान करते हैं। A की मासिक आमदनी रु.20,000 और B की रु 1,00,000 है। A का किराया उसके मासिक वेतन का 50% है जबकि B का किराया केवल 10% है। चूंकि A की आमदनी B से बहुत कम है, इसलिए किराए का बोझ A की जेब पर बहुत भारी है।

निष्कर्ष

यदि एक देश में किसी वस्तु की क़ीमत अधिक है, तो क्या यह उचित है कि यही दूसरे देश में भी अधिक होनी चाहिए? इस प्रकार की तुलनाएं भ्रामक हैं क्योंकि इसमें विभिन्न देशों के व्यक्ति की क्रय क्षमता को ध्यान में नहीं रखा जाता है। यानी पुरी का दावा मिसलीडिंग और भ्रामक है।

Popular of this week

Latest articles

फैक्ट चेक: जगदीप धनखड़ देश के 16वें नहीं बल्कि 14वें उपराष्ट्रपति बने, पत्रिका ने चलाई गलत ख़बर

देश के प्रमुख राष्ट्रीय समाचार पत्रों में से एक पत्रिका ने जगदीप धनखड़ को...

फैक्ट चेकः हिन्दूओं ने गांव में बसाया था 1 मुस्लिम, अब मुस्लिम बाहुल्य हुआ गांव, हिन्दू कर गए पलायन?

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रहा है। इस पोस्ट को...

पैगंबर मुहम्मद की आड़ में भारत विरोधी एजेंडे का अंतर्राष्ट्रीय अभियान

पैगंबर मुहम्मद (ﷺ) का इस्लाम धर्म में अल्लाह के बाद सर्व्वोच स्थान है। दुनिया...

फैक्ट चेक: ‘ब्लादिमीर पुतिन बोले – POK खाली करो!’ जानिए – सच्चाई

सोशल मीडिया पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के नाम से एक पोस्ट बड़ी...

all time popular

More like this

फैक्ट चेक: जगदीप धनखड़ देश के 16वें नहीं बल्कि 14वें उपराष्ट्रपति बने, पत्रिका ने चलाई गलत ख़बर

देश के प्रमुख राष्ट्रीय समाचार पत्रों में से एक पत्रिका ने जगदीप धनखड़ को...

फैक्ट चेकः हिन्दूओं ने गांव में बसाया था 1 मुस्लिम, अब मुस्लिम बाहुल्य हुआ गांव, हिन्दू कर गए पलायन?

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रहा है। इस पोस्ट को...

पैगंबर मुहम्मद की आड़ में भारत विरोधी एजेंडे का अंतर्राष्ट्रीय अभियान

पैगंबर मुहम्मद (ﷺ) का इस्लाम धर्म में अल्लाह के बाद सर्व्वोच स्थान है। दुनिया...

फैक्ट चेक: ‘ब्लादिमीर पुतिन बोले – POK खाली करो!’ जानिए – सच्चाई

सोशल मीडिया पर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के नाम से एक पोस्ट बड़ी...

फैक्ट चेक- केंद्र सरकार की योजनाओं में मुस्लिम लाभार्थियों पर पूर्व मंत्री नकवी ने किया भ्रामक दावा 

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में राहुल कंवल द्वारा पूछे गए एक सवाल को संबोधित करते...

फैक्ट चेक:- क्या नितिन गडकरी पीएम मोदी की आलोचना कर रहे हैं?

नितिन गडकरी का एक वीडियो सोशल मीडिया साइट्स पर वायरल हो रहा है। वीडियो...