Digital Forensic, Research and Analytics Center

शनिवार, जून 25, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमUncategorizedफ़ैक्ट चेक: वायरल हो रही तस्वीर में दिख रहा लकड़ी का दिल...

फ़ैक्ट चेक: वायरल हो रही तस्वीर में दिख रहा लकड़ी का दिल श्रीकृष्ण भगवान का नहीं

Published on

Subscribe us

सोशल मीडिया पर एक लकड़ी के दिल की तस्वीर बड़े पैमाने पर वायरल हो रही है। वायरल तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि ये लकड़ी का दिल श्रीकृष्ण भगवान का है। जो आज भी धड़कता है।

पोस्ट का लिंक

एक यूजर ने इस तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा कि भगवान् कृष्ण ने जब देह छोड़ी तो उनका अंतिम संस्कार किया गया, उनका सारा शरीर तो पांच तत्त्व में मिल गया,लेकिन उनका हृदय बिलकुल सामान्य एक जिन्दा आदमी की तरह धड़क रहा था और वो बिलकुल सुरक्षित था , उनका हृदय आज तक सुरक्षित है, जो भगवान् जगन्नाथ की काठ की मूर्ति के अंदर रहता है और उसी तरह धड़कता है , ये बात बहुत कम लोगो को पता है, महाप्रभु का महा रहस्य सोने की झाड़ू से होती है सफाई…… महाप्रभु जगन्नाथ(श्री कृष्ण) को कलियुग का भगवान भी कहते है…. पुरी(उड़ीसा) में जग्गनाथ स्वामी अपनी बहन सुभद्रा और भाई बलराम के साथ निवास करते है, मगर रहस्य ऐसे है कि आजतक कोई न जान पाया, हर 12 साल में महाप्रभु की मूर्ती को बदला जाता है,उस समय पूरे पुरी शहर में ब्लैकआउट किया जाता है, यानी पूरे शहर की लाइट बंद की जाती है,लाइट बंद होने के बाद मंदिर परिसर को crpf की सेना चारो तरफ से घेर लेती है,उस समय कोई भी मंदिर में नही जा सकता, मंदिर के अंदर घना अंधेरा रहता है…पुजारी की आँखों मे पट्टी बंधी होती है…पुजारी के हाथ मे दस्ताने होते है..वो पुरानी मूर्ती से “ब्रह्म पदार्थ” निकालता है और नई मूर्ती में डाल देता है…ये ब्रह्म पदार्थ क्या है आजतक किसी को नही पता…इसे आजतक किसी ने नही देखा…

हज़ारो सालो से ये एक मूर्ती से दूसरी मूर्ती में ट्रांसफर किया जा रहा है, ये एक अलौकिक पदार्थ है जिसको छूने मात्र से किसी इंसान के जिस्म के चिथड़े उड़ जाए… इस ब्रह्म पदार्थ का संबंध भगवान श्री कृष्ण से है…मगर ये क्या है ,कोई नही जानता,भगवान जगन्नाथ और अन्य प्रतिमाएं उसी साल बदली जाती हैं, जब साल में आसाढ़ के दो महीने आते हैं। 19 साल बाद यह अवसर आया है,वैसे कभी-कभी 14 साल में भी ऐसा होता है, इस मौके को नव-कलेवर कहते हैं, मगर आजतक कोई भी पुजारी ये नही बता पाया की महाप्रभु जगन्नाथ की मूर्ती में आखिर ऐसा क्या है ???

कुछ पुजारियों का कहना है कि जब हमने उसे हाथ में लिया तो खरगोश जैसा उछल रहा था…आंखों में पट्टी थी…हाथ मे दस्ताने थे तो हम सिर्फ महसूस कर पाए, आज भी हर साल जगन्नाथ यात्रा के उपलक्ष्य में सोने की झाड़ू से पुरी के राजा खुद झाड़ू लगाने आते है, भगवान जगन्नाथ मंदिर के सिंहद्वार से पहला कदम अंदर रखते ही समुद्र की लहरों की आवाज अंदर सुनाई नहीं देती, जबकि आश्चर्य में डाल देने वाली बात यह है कि जैसे ही आप मंदिर से एक कदम बाहर रखेंगे, वैसे ही समुद्र की आवाज सुनाई देंगी, आपने ज्यादातर मंदिरों के शिखर पर पक्षी बैठे-उड़ते देखे होंगे, लेकिन जगन्नाथ मंदिर के ऊपर से कोई पक्षी नहीं गुजरता,झंडा हमेशा हवा की उल्टी दिशामे लहराता है, दिन में किसी भी समय भगवान जगन्नाथ मंदिर के मुख्य शिखर की परछाई नहीं बनती, भगवान जगन्नाथ मंदिर के 45 मंजिला शिखर पर स्थित झंडे को रोज बदला जाता है, ऐसी मान्यता है कि अगर एक दिन भी झंडा नहीं बदला गया तो मंदिर 18 सालों के लिए बंद हो जाएगा, इसी तरह भगवान जगन्नाथ मंदिर के शिखर पर एक सुदर्शन चक्र भी है, जो हर दिशा से देखने पर आपके मुंह आपकी तरफ दीखता है, भगवान जगन्नाथ मंदिर की रसोई में प्रसाद पकाने के लिए मिट्टी के 7 बर्तन एक-दूसरे के ऊपर रखे जाते हैं, जिसे लकड़ी की आग से ही पकाया जाता है, इस दौरान सबसे ऊपर रखे बर्तन का पकवान पहले पकता है। भगवान जगन्नाथ मंदिर में हर दिन बनने वाला प्रसाद भक्तों के लिए कभी कम नहीं पड़ता, लेकिन हैरान करने वाली बात ये है कि जैसे ही मंदिर के पट बंद होते हैं वैसे ही प्रसाद भी खत्म हो जाता है और भी कितनी ही आश्चर्यजनक चीजें हैं, हमारे सनातन धर्म की। जय हो सनातन धर्म की 🙏🙏🚩  श्री जगन्नाथ जी की जय 🚩 #जय_श्री_कृष्णा

फैक्ट चेक

वायरल दावे की पड़ताल करने पर हमारी टीम को ये तस्वीर फ्रांस की Ministry of culture की वेबसाइट पर मिली। जहां ये तस्वीर यहाँ 12 जून 2013 को पब्लिश की गई थी। तस्वीर के केप्शन में लिखा है कि “Dimitri Tsykalov, heart.”

इसके अलावा Dimitri Tsykalov ने भी अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर भी इस तस्वीर को 2013 में अपलोड किया था। बता दें कि Dimitri एक फेमस आर्टिस्ट हैं जो शरीर के विभिन्न हिस्सों के रचनात्मक आर्टवर्क बनाते हैं।

अत: वायरल तस्वीर के श्रीकृष्ण का दिल होने का दावा झूठा और भ्रामक है।

Claim Review:  क्या वायरल तस्वीर में दिख रहा लकड़ी का दिल श्रीकृष्ण भगवान है?

Claim By:  फेसबुक पेज – स्त्री वुमेन

Fact Check: फेक और भ्रामक

Dilshad Noor
Dilshad Noor
Mr. Dilshad Noor is a research fellow at DFRAC with experience of 8 years in the field of journalism He has done his bachelor's in journalism from VMOU, Kota. He has done MA and LLB from the University of Kota. He specializes in report making and research analysis.

Popular of this week

Latest articles

महाराष्ट्र में शिवसेना और NCP कार्यकर्ताओं के बीच हुई हाथापाई और मारपीट?, पढ़ें- फैक्ट चेक

महाराष्ट्र में शिवसेना अपने विधायकों की बगावत से जूझ रही है। पार्टी के कई...

पूर्व राष्ट्रपति पाटिल के PM मोदी की तारीफ़ करने का फ़र्ज़ी दावा वायरल 

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट जमकर वायरल हो रहा है। इस पोस्ट मे दावा...

फैक्ट चेकः Samajwadi Party नेता ने लिसिप्रिया कंगुजम को विदेशी बताने के पीछे मीडिया को ठहराया दोषी

ताजमहल को लेकर Samajwadi Party के डिजिटल मीडिया कोआर्डिनेटर मनीष जगन अग्रवाल ने एक...

फैक्ट चेक: Aaditya Thackeray को लेकर ज़ी न्यूज, इंडिया TV सहित कई मीडिया चैनलों ने फैलाया झूठ

महाराष्ट्र में शिवसेना के अंदर गतिरोध जारी है। पार्टी के कई विधायक एकनाथ शिंदे...

all time popular

More like this

फैक्ट चेकः क्या डिंपल यादव ने कहा- “अखिलेश भी जानते हैं कि मुख्यमंत्री योगी ही बनेंगे ”?

सोशल मीडिया पर राजनीतिक पार्टियों द्वारा धुआंधार चुनावी प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। इस...

फैक्ट चेक: क्या बीजेपी ने AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के घर के पास बनाई ‘स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी’?

सोशल मीडिया पर एक दावा बड़े पैमाने पर वायरल हो रहा है। जिसमे कहा...

फैक्ट चेक: क्या अमेरिका के सबसे अमीर शख्स ने अपनाया इस्लाम, जानिए सच

सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर अमेरिका के सबसे अमीर शख्स जॉन फोर्ड के...

GoDaddy पर संक्ट 1.2 मिलियन से अधिक वर्डप्रेस वेबसाइट के मालिक प्रभावित

GoDaddy एक विशाल इंटरनेट इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी है जो इंटरनेट व्यवसायों को सेवाएं प्रदान करती...

फैक्ट चेक: कंगना रनौत के पोस्टर को चप्पलों से पीटने की सच्चाई

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत विवादास्पद बयानों के लिए जानी जाती हैं। वह अक्सर ऐसे...

फैक्ट-चेक: अफगानिस्तान के पंजशीर में हिंदू देवी-देवताओं की पेंटिंग का सच?

फ़ेसबुक और ट्विटर पर सैकड़ों यूजर्स द्वारा एक पेंटिंग की एक तस्वीर शेयर की...