Digital Forensic, Research and Analytics Center

शनिवार, जून 25, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkफैक्ट चेक: पोप फ्रांसिस ने नहीं किया बाइबल की जगह नई किताब...

फैक्ट चेक: पोप फ्रांसिस ने नहीं किया बाइबल की जगह नई किताब लाने का दावा

Published on

Subscribe us

दुनिया भर में क्रिसमस के जश्न के बीच ईसाई धर्म के शीर्ष धर्मगुरु पोप फ्रांसिस के हवाले से दावा किया जा रहा है कि उन्होने बाईबिल को पुरानी किताब करार देते हुए एक नई किताब लाने की घोषणा की है। जिसे उन्होने “बिब्लिया 2000” नाम दिया है।

यूजर का दावा

पोस्ट में कहा गया कि पोप फ्रांसिस ने आज यह घोषणा करते हुए दुनिया को चौंका दिया है कि बाइबिल पूरी तरह से पुरानी है और इसमें आमूल-चूल परिवर्तन की जरूरत है, इसलिए बाइबिल को आधिकारिक तौर पर रद्द कर दिया गया है और चर्च के सर्वोच्च व्यक्तित्वों के बीच एक बैठक की घोषणा की गई है जहां यह तय किया जाएगा कि वह किताब जो इसे बदल देगी, उसका नाम “बिब्लिया 2000” होगा।

पॉप के हवाले से कहा गया, “हम एक पूरी तरह से नई दुनिया में हजारों साल पुरानी किताब के साथ अपनी जनता से बात करने की कोशिश नहीं कर सकते हैं। हम अनुयायियों को खो रहे हैं और हमें चर्च के आधुनिकीकरण की तलाश में एक कदम आगे जाना होगा। परमेश्वर

के वचन को फिर से लिखने के लिए, भले ही वह केवल पुराना नियम ही क्यों न हो, जिसमें कुछ अंश ऐसे हों जिन्हें न दोहराना ही बेहतर है।”

फैक्ट चेक

जब हमारी टीम ने वायरल दावे की पड़ताल की तो पाया कि पोप ने बाइबल के सबंध में इस तरह का कोई बयान नहीं दिया। इस सबंध में रोमन कैथोलिक चर्च वेटिकन की आधिकारिक वेबसाइट होली सी प्रेस ऑफिस पर भी Biblia 2000 सर्च करने पर कुछ नहीं मिला।

हालांकि हमे पोप फ्रांसिस का जुलाई 2019 एक ट्वीट मिला। जिसमे पोप फ्रांसिस ने उपरोक्त दावों का खंडन करते हुए कहा कि “बाइबल सिर्फ एक शेल्फ पर रखने के लिए एक खूबसूरत किताब नहीं है। यह जीवन का वचन है, एक उपहार जिसे यीशु ने हमें स्वीकार करने के लिए कहा ताकि उसके नाम में जीवन हो।”

इसके अलावा हमे जनवरी 2021 में “ROME REPORTS” को दिये पॉप का एक इंटरव्यू भी मिला। जिसमे उन्हे यह कहते हुए सुना जा सकता है कि बाइबिल एक ऐसा स्रोत है जिससे प्रत्येक ईसाई बहुत लाभान्वित हो सकता है और इसी कारण से उन्होंने इस पर बार-बार ध्यान करने और इसे उपन्यास की तरह न पढ़ने की सलाह दी।

अत: पोप फ्राँसिस के बाईबिल को “बिब्लिया 2000” से बदलने का दावा फेक पाया गया है।

Dilshad Noor
Dilshad Noor
Mr. Dilshad Noor is a research fellow at DFRAC with experience of 8 years in the field of journalism He has done his bachelor's in journalism from VMOU, Kota. He has done MA and LLB from the University of Kota. He specializes in report making and research analysis.

Popular of this week

Latest articles

महाराष्ट्र में शिवसेना और NCP कार्यकर्ताओं के बीच हुई हाथापाई और मारपीट?, पढ़ें- फैक्ट चेक

महाराष्ट्र में शिवसेना अपने विधायकों की बगावत से जूझ रही है। पार्टी के कई...

पूर्व राष्ट्रपति पाटिल के PM मोदी की तारीफ़ करने का फ़र्ज़ी दावा वायरल 

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट जमकर वायरल हो रहा है। इस पोस्ट मे दावा...

फैक्ट चेकः Samajwadi Party नेता ने लिसिप्रिया कंगुजम को विदेशी बताने के पीछे मीडिया को ठहराया दोषी

ताजमहल को लेकर Samajwadi Party के डिजिटल मीडिया कोआर्डिनेटर मनीष जगन अग्रवाल ने एक...

फैक्ट चेक: Aaditya Thackeray को लेकर ज़ी न्यूज, इंडिया TV सहित कई मीडिया चैनलों ने फैलाया झूठ

महाराष्ट्र में शिवसेना के अंदर गतिरोध जारी है। पार्टी के कई विधायक एकनाथ शिंदे...

all time popular

More like this

महाराष्ट्र में शिवसेना और NCP कार्यकर्ताओं के बीच हुई हाथापाई और मारपीट?, पढ़ें- फैक्ट चेक

महाराष्ट्र में शिवसेना अपने विधायकों की बगावत से जूझ रही है। पार्टी के कई...

पूर्व राष्ट्रपति पाटिल के PM मोदी की तारीफ़ करने का फ़र्ज़ी दावा वायरल 

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट जमकर वायरल हो रहा है। इस पोस्ट मे दावा...

फैक्ट चेकः Samajwadi Party नेता ने लिसिप्रिया कंगुजम को विदेशी बताने के पीछे मीडिया को ठहराया दोषी

ताजमहल को लेकर Samajwadi Party के डिजिटल मीडिया कोआर्डिनेटर मनीष जगन अग्रवाल ने एक...

फैक्ट चेक: Aaditya Thackeray को लेकर ज़ी न्यूज, इंडिया TV सहित कई मीडिया चैनलों ने फैलाया झूठ

महाराष्ट्र में शिवसेना के अंदर गतिरोध जारी है। पार्टी के कई विधायक एकनाथ शिंदे...

फैक्ट चेक: पीएम मोदी की तारीफ करते ऑस्ट्रेलियाई पीएम का पुराना वीडियो वायरल

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबॉट का नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया...

फ़ैक्ट चेक: अमूल का बैनर सोशल मीडिया पर क्यों हो रहा है वायरल? जानिए, पीछे की कहानी 

अमूल (Amul) भारत का ऐसा ब्रांड है कि यहां बच्चा बच्चा अमूल के बारे...