Digital Forensic, Research and Analytics Center

शनिवार, अगस्त 13, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkफैक्ट-चेक: क्या महाराष्ट्र में बंदरों ने बदले के लिए मार डाले 200...

फैक्ट-चेक: क्या महाराष्ट्र में बंदरों ने बदले के लिए मार डाले 200 कुत्ते के पिल्ले

Published on

Subscribe us

हाल ही में नेशनल और इंटेरनेशनल मीडिया में एक खबर छाई रही। जिसमे दावा किया गया कि भारत के महाराष्ट्र में बंदरों ने बदला लेने के लिए 200 कुत्ते के पिल्ले मार डाले। इस खबर पर भारत सहित विदेशों में भी कई बड़े अखबारों ने अपनी रिपोर्ट प्रकाशित की। जिसमे दी न्यूयार्क पोस्ट, दी गार्जियन, एएनआई, न्यूज़ 18 आदि शामिल है।

हिन्दी मीडिया की रिपोर्ट

 

इस खबर में दावा किया गया कि कैसे इन बंदरों ने गाँव में कुत्तों को मार डाला। रिपोर्ट में कहा गया, लावुल मराठवाड़ा के बीड ज़िले के मजलगांव तहसील में बंदर कुत्तो को देखते ही उन पर हमला कर देते है। बंदरों के इस हमले में 200 से ज्यादा कुत्ते के पिल्ले मारे गए।

फैक्ट चेक:

 

बीबीसी की रिपोर्ट

 

इन रिपोर्ट में किया गया दावा झूठा पाया गया है। स्थानीय वन अधिकारी सचिन कांड ने बताया कि बंदरों के हमले में कुत्ते के पिल्लो की हत्या को नकारते हुए कहा कि गांव में लगभग 50 पिल्ले भूख से मर गए हैं।  वन अधिकारी ने दावा किया कि जानवरों में बदला लेने की भावना नहीं होती है। “वे सिर्फ एक दूसरे से लड़ते हैं क्योंकि वे जानवर हैं, यही उनकी प्रवृत्ति है।”  उन्होने ये भी कहा कि मरने वाले पिलो की संख्या भी बढ़ा-चढ़ाकर बताई गई। जो निराधार है।

वहीं ग्राम पंचायत समिति के सदस्य रवींद्र शिंदे ने बीबीसी को बताया, “गांव में बहुत बंदर नहीं हैं, कभी-कभी आते थे लेकिन ज़्यादा परेशान नहीं करते थे। लेकिन इस बार बंदरों के आने के बाद गांव में विचित्र घटनाएं देखने को मिलीं।” इन बंदरों ने पिल्लों को उठाया और उन्हें पेड़ों या ऊंचे घरों में ले गए। पहले तो ग्रामीणों को ज़्यादा समझ नहीं आया, लेकिन फिर उन्होंने देखा कि बंदर धीरे-धीरे पिल्लों को लेकर भाग रहे हैं।

बंदर जिन पिल्लों को पेड़ या ऊंचे घरों पर ले गए, उनमें से कुछ ऊपर से गिर पड़े और गिरने से उनकी मौत हो गई। यहीं से अफ़वाह फैलने लगी कि बंदर पिल्लों को मार रहे हैं और ये बात फैलती गई।

अत: उपरोक्त जांच और विश्लेषण में पाया गया कि ये खबर झूठी और भ्रामक है।

- Advertisement -

जामा मस्जिद पर दिल्ली पर्यटन विभाग ने किया ग़लत दावा

Load More
Dilshad Noor
Dilshad Noor
Mr. Dilshad Noor is a research fellow at DFRAC with experience of 8 years in the field of journalism He has done his bachelor's in journalism from VMOU, Kota. He has done MA and LLB from the University of Kota. He specializes in report making and research analysis.

Popular of this week

Latest articles

फैक्ट चेक: क्या अब मकान किराए पर देना होगा 18% GST?

सोशल मीडिया पर एक दावा बड़ा वायरल हो रहा है। जिसमे कहा गया कि...

Fact Check: Comedian Raju Srivastava did not die, fake news viral on social media

Famous comedian Raju Srivastava suffered a heart attack while doing gym. He has been...

क्या 10 लाख नौकरियां देने के वादे से मुकर रहे तेजस्वी यादव? पढ़ें- फैक्ट चेक

बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो...

फ़ैक्ट चेक: राजा अनंगपाल ने नहीं, मुगल बादशाह शाहजहां ने कराया था लाल क़िले का निर्माण

मुग़लों का चर्चा भारतीय समाज में हमेशा बना रहता है। दिल्ली स्तिथ लाल क़िला...

all time popular

More like this

फैक्ट चेक: क्या अब मकान किराए पर देना होगा 18% GST?

सोशल मीडिया पर एक दावा बड़ा वायरल हो रहा है। जिसमे कहा गया कि...

Fact Check: Comedian Raju Srivastava did not die, fake news viral on social media

Famous comedian Raju Srivastava suffered a heart attack while doing gym. He has been...

क्या 10 लाख नौकरियां देने के वादे से मुकर रहे तेजस्वी यादव? पढ़ें- फैक्ट चेक

बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो...

फ़ैक्ट चेक: राजा अनंगपाल ने नहीं, मुगल बादशाह शाहजहां ने कराया था लाल क़िले का निर्माण

मुग़लों का चर्चा भारतीय समाज में हमेशा बना रहता है। दिल्ली स्तिथ लाल क़िला...

फैक्ट चेकः कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव का नहीं हुआ निधन, सोशल मीडिया पर फेक खबरें वायरल

मशहूर कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव को जिम करने के दौरान दिल का दौरा पड़ गया...

बिहार के बेतिया में हिन्दू पुजारी की हत्या में हैं ‘मुस्लिम’ कनेक्शन? पढ़ें- फैक्ट चेक

बिहार के बेतिया में एक पुजारी की गर्दन काटकर हत्या कर दी गई। इस...