Digital Forensic, Research and Analytics Center

शनिवार, अगस्त 13, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमFact Checkफेक्ट चेक: क्या सऊदी अरब ने तब्लीग़ी जमात पर प्रतिबंध लगाया है?

फेक्ट चेक: क्या सऊदी अरब ने तब्लीग़ी जमात पर प्रतिबंध लगाया है?

Published on

Subscribe us

छह दिसंबर को सऊदी अरब के इस्लामिक मामलों के मंत्रालय के ट्विटर हैंडल से होने वाले एक ट्वीट ने भारत में तब्लीग़ी जमात को एक बार फिर चर्चा में ला दिया। इस ट्वीट के हवाले से भारत के लगभग तमाम छोटे-बड़े मीडिया संस्थानों ने ख़बरें चलाईं कि सऊदी अरब ने तब्लीग़ी जमात को आतंकवाद का द्वार बताते हुए प्रतिबंधित कर दिया है।

यह ख़बर इतनी तेज़ी से फैलीं की देवबंद स्थित दारुल उलूम को प्रेस बयान जारी कर सऊदी अरब सरकार से इस फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की गई।

लेकिन सवाल यह है कि क्या सऊदी सरकार ने वास्तव में तब्लीग़ी जमात को प्रतिबंधित कर दिया है? हिंदी, अंग्रेज़ी के तमाम मीडिया संस्थानों ने यही ख़बर प्रसारित की है कि सऊदी सरकार ने तब्लीग़ी जमात को प्रतिबंधित कर दिया है। इन संस्थानों ने अपनी ख़बर की पुष्टी के तौर पर सऊदी सरकार के इस्लामिक मामलों के मंत्रालय द्वारा किये गये ट्वीट का हवाल दिया है।

भारतीय मीडिया का दावा

फैक्ट चेक

सऊदी अरब सरकार में इस्लामिक मामलों के महामहिम मंत्री, डॉ. अब्दुल्लातीफ अल अलशेख ने मस्जिदों के इमामों और मस्जिदों को निर्देश दिया कि जुमा की नमाज़ तबलीगी जमात और दावा (दावत) (दोनों का मुशतर्का नाम ‘अल अहबाब) से लोगों को चेताएं। मंत्री डॉ. अब्दुल लतीफ़ ने कहा इमाम इनकी गड़बड़ियां और बिदअत के साथ साथ यह भी बताएं कि ये कुछ कहें मगर टेररिज्म फैलाने वाला यह पहला दरवाज़ा है। इस्लामिक मामलों के मंत्रालय की ओर से चार निर्देश दिये गये हैं, जो निम्नलिखित हैं-

1- इस समूह के पथभ्रष्टता, विचलन और खतरे की घोषणा, और यह कि यह आतंकवाद के द्वारों में से एक है, भले ही वे कुछ दावा करें।
2- उनकी सबसे प्रमुख गलतियों का उल्लेख करें।
3- समाज के लिए उनके खतरे का उल्लेख करें।
4- यह कथन कि सऊदी अरब साम्राज्य में (तब्लीगी और दावा समूह) सहित पक्षपातपूर्ण समूहों के साथ संबद्धता निषिद्ध है।

इन निर्देशों में कहीं भी यह नहीं लिखा है कि सऊदी अरब सरकार ने तब्लीग़ी जमात को प्रतिबंधित कर दिया है। इसलिये यह कहना कि सऊदी सरकार ने तब्लीग़ी जमात को प्रतिबंधित कर दिया है, यह दावा भ्रामक और मनघड़ंत है।

उल्लेखनीय है कि सऊदी अरब की सरकार सलाफ़ी विचारधारा के अतिरिक्त किसी भी अन्य संप्रदाय को अपनी गतिविधियों को संचालित करने की अनुमति नहीं देती है।

- Advertisement -

जामा मस्जिद पर दिल्ली पर्यटन विभाग ने किया ग़लत दावा

Load More

Popular of this week

Latest articles

फैक्ट चेक: क्या अब मकान किराए पर देना होगा 18% GST?

सोशल मीडिया पर एक दावा बड़ा वायरल हो रहा है। जिसमे कहा गया कि...

Fact Check: Comedian Raju Srivastava did not die, fake news viral on social media

Famous comedian Raju Srivastava suffered a heart attack while doing gym. He has been...

क्या 10 लाख नौकरियां देने के वादे से मुकर रहे तेजस्वी यादव? पढ़ें- फैक्ट चेक

बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो...

फ़ैक्ट चेक: राजा अनंगपाल ने नहीं, मुगल बादशाह शाहजहां ने कराया था लाल क़िले का निर्माण

मुग़लों का चर्चा भारतीय समाज में हमेशा बना रहता है। दिल्ली स्तिथ लाल क़िला...

all time popular

More like this

फैक्ट चेक: क्या अब मकान किराए पर देना होगा 18% GST?

सोशल मीडिया पर एक दावा बड़ा वायरल हो रहा है। जिसमे कहा गया कि...

Fact Check: Comedian Raju Srivastava did not die, fake news viral on social media

Famous comedian Raju Srivastava suffered a heart attack while doing gym. He has been...

क्या 10 लाख नौकरियां देने के वादे से मुकर रहे तेजस्वी यादव? पढ़ें- फैक्ट चेक

बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो...

फ़ैक्ट चेक: राजा अनंगपाल ने नहीं, मुगल बादशाह शाहजहां ने कराया था लाल क़िले का निर्माण

मुग़लों का चर्चा भारतीय समाज में हमेशा बना रहता है। दिल्ली स्तिथ लाल क़िला...

फैक्ट चेकः कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव का नहीं हुआ निधन, सोशल मीडिया पर फेक खबरें वायरल

मशहूर कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव को जिम करने के दौरान दिल का दौरा पड़ गया...

बिहार के बेतिया में हिन्दू पुजारी की हत्या में हैं ‘मुस्लिम’ कनेक्शन? पढ़ें- फैक्ट चेक

बिहार के बेतिया में एक पुजारी की गर्दन काटकर हत्या कर दी गई। इस...