Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फ़ैक्ट-चेक: मणिपुर में अर्धसैनिक बलों पर हमले की वायरल तस्वीर का सच

मणिपुर के चुराचंदपुर जिले में 13 नवंबर 2021 को अर्धसैनिक बलों पर हमला हुआ था। जिसमें एक कमांडर और उनके परिवार सहित 7 लोगों की मौत हो गई थी। पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) और मणिपुर नागा पीपुल्स फ्रंट (एमएनपीएफ) ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।

इस बीच फ़ेसबुक और ट्विटर पर एक फोटो वायरल हो रहा है। इस फोटो में दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर मणिपुर हमले का है, जहां हमले के बाद मलबा फैला हुआ है।

फेसबुक पर शेयर की गई तस्वीर

फेसबुक पर एक और दावा

फैक्ट चेकः

हमने गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च किया और पाया कि यह तस्वीर 2015 में फ्रांस की न्यूज एजेंसी एएफपी (AFP) द्वारा ली गई थी। इसके साथ घटना के विवरण के तौर पर कैप्शन दिया गया था- “4 जून, 2015 को ली गई इस तस्वीर में, भारतीय सुरक्षाकर्मी सुलगते वाहन के मलबे के साथ एक हमले के स्थान पर खड़े हैं। पूर्वोत्तर के राज्य मणिपुर की राजधानी इंफाल से लगभग 120 किलोमीटर (75 मील) दक्षिण-पश्चिम में चंदेल जिले के एक सुदूर इलाके में एक सैन्य काफिला है।”

2015 में एएफपी द्वारा ली गई तस्वीर

इस फैक्ट चेक से साबित होता है कि सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर मणिपुर की है। लेकिन इसके साथ किया जा रहा दावा फेक और भ्रामक है, क्योंकि यह तस्वीर 2021 के हमले की नहीं बल्कि 2015 की है।