Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट चेक: कंगना रनौत के पोस्टर को चप्पलों से पीटने की सच्चाई

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत विवादास्पद बयानों के लिए जानी जाती हैं। वह अक्सर ऐसे बयान देती रहती हैं, जिसपर विवाद बढ़ता चला जाता है। हाल ही में मीडिया समिट में विवादास्पद बयान देते हुए उन्होंने कहा था कि 1947 में मिली आजादी भीख थी और असली आजादी 2014 में मिली थी। उनके इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया जाने लगा। उनके नाम पर कई हैशटैग ट्रेंड कर रहे थे।

तालिका 1: कंगना रनौत के नाम से ट्रेंड करने वाले हैशटैग

चित्र: हैशटैग टाइमलाइन

यह वह समय सीमा थी (11 नवंबर, 2021 से 14 नवंबर, 2021 तक) जब कंगना रनौत से जुड़े विभिन्न वीडियो और क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हुए। वायरल हुए एक वीडियो में भीड़ ने कंगना रनौत को चप्पलों से पीटते हुए पोस्टर दिखाया। यह 13 नवंबर, 2021 को फेसबुक और ट्विटर दोनों पर वायरल हो गया। वीडियो के साथ संलग्न विवरण में लिखा है, “#अंधभक्त की बहन #KanganaRanaut के खिलाफ देश के लोगों में भारी आक्रोश है, उसका देश भर में भारी विरोध है। #KangnaRanautDeshdrohi वीडियो देखें। !

फेसबुक पर वायरल पोस्ट
ट्विटर पर वायरल पोस्ट

 

वहीं इस पोस्ट का फेसबुक पर कॉपी पेस्ट पैटर्न देखने को मिला। फ़ेसबुक पर, अलग-अलग अकाउंट्स ने एक ही वीडियो को एक ही विवरण के साथ पोस्ट किया।

एक ही वीडियो को अलग-अलग अकाउंट से फेसबुक पर एक ही डिस्क्रिप्शन के साथ शेयर किया गया

फेक्ट चेक (तथ्यों की जांच):

वीडियो से छोटे फ्रेम लेकर रिवर्स सर्च करने पर पता चला कि वीडियो एक साल से ज्यादा पुराना है। इसे सिटी हेडलाइंस न्यूज़ द्वारा 4 सितंबर, 2020 को इस विवरण के साथ पोस्ट किया गया था, “शिवसेना ने कंगना रनौत के खिलाफ उनके पोस्टर को चप्पल से पीटा”। यह वीडियो उस घटना से संबंधित है जब अभिनेत्री कंगना रनौत ने बयान दिया था कि मुंबई की स्थिति पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की तरह है और वह मुंबई में रहने से डरती है। जिसके बाद मुंबई में शिवसेना के ठाणे स्थित कार्यालय पर महिला विंग आनंद मठ की महिला कार्यकर्ताओं ने पोस्टर पर जूते चप्पल से पिटाई की थी।

सिटी हेडलाइंस न्यूज द्वारा 4 सितंबर, 2020 को पोस्ट किया गया रियल वीडियो

इसलिए भीड़ द्वारा कंगना की तस्वीर को काला करने और जूते चप्पल से पिटाई करने का वायरल वीडियो पुराना और भ्रामक है।