Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट चेक: बांग्लादेश का जघन्य वीडियो कुवैत में भारत में सांप्रदायिक हिंसा के रूप में वायरल हो रहा

वकील मुजबिल अल-शरेका, @MJALSHRIKA के नाम से एक ट्विटर यूजर ने एक वीडियो पोस्ट किया। इस अकाउंट के 185K फॉलोअर्स हैं। यूजर ने 30 अक्टूबर, 2021 को एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें दो शख्स जमीन पर पड़े एक शख्स को बेरहमी से पीटते हुए दिखाई दे रहे हैं।

@MJALSHRIKA द्वारा किया गया ट्वीट

इस वीडियो को इस कैप्शन के साथ अपलोड किया गया है कि “अरब और मुस्लिम मुल्क कहां है?, क्या हम भारत के नरसंहार हिंदू शासन के साथ हमेशा की तरह व्यापार जारी रखेंगे?, क्या हम उन्हें अपने मुस्लिम भाइयों और बहनों को बेरहमी से मारने की इज़ाज़त देंगे? बहरे और गूंगे उम्माह?”

पता चलता है कि अकाउंट यह दावा करना चाहता है कि यह घटना भारत में हुई है और वीडियो में एक मुसलमान को दो हिंदू युवतों द्वारा पीटा जा रहा है। यह अकाउंट कुवैत के लोगों से भी सवाल करता है कि क्या उन्हें भारतीयों के साथ अपना कारोबार जारी रखना चाहिए, जो हमारे मुस्लिम भाइयों और बहनों को मारते हैं?

इस ट्वीट पर 1115 रीट्वीट, 160 कोट ट्वीट और 1572 लाइक हैं।

तथ्यों की जांच:

वीडियो के फ्रेम को गूगल पर सर्च करने पर पता चला कि यह वीडियो 21 मई 2021 का है, और यह वीडियो बांग्लादेश का है न कि भारत का।

News24 द्वारा अपलोड किया गया वीडियो

मामले की गहराई से छानबीन करने पर पता चला कि जमीन पर पड़े व्यक्ति की हत्या करने वाले लोग एक ही धर्म के थे और उन्होंने बांग्लादेश के चटगांव डिवीजन के लक्ष्मीपुर-1 निर्वाचन क्षेत्र के पूर्व विधायक एमए अवल के साथ ज़मीनी विवाद के कारण उसकी हत्या कर दी। इसलिए, @MJALSHRIKA का उपरोक्त दावा भ्रामक है।