Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट-चेक: शेफाली वैद्य ने कराची बेकरी को लेकर किया झूठा दावा?

सोशल मीडिया पर एक वेरीफाइड यूजर शेफाली वैद्य ने शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी के ट्वीट के जवाब में एक लेख का स्क्रीनशॉट पोस्ट किया। चतुर्वेदी ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर फैब इंडिया के दिवाली वाले विज्ञापन पर हो रहे विवादों को लेकर टिप्पणी की थी। दरअसल सोशल मीडिया यूजर्स दिवाली त्यौहार पर फैब इंडिया के विज्ञापन में “जश-ए-रिवाज़” टैगलाइन इस्तेमाल किए जाने पर अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं। प्रियंका चतुर्वेदी ने इन्हीं विवादों पर टिप्पणी करते हुए ट्वीट किया कि फैब इंडिया को किसी भी तरह के दबाव में नहीं झुकना चाहिए।

प्रियंका चतुर्वेदी की इस टिप्पणी के जवाब में शैफाली वैद्य ने एक न्यूज के वेबलिंक को शेयर किया। जिसमें दावा किया गया था कि शिवसेना नेता के सुझाव के बाद कराची बेकरी के मालिक ने अपने दुकान का नाम चेंज करने पर राजी हो गया था।

शैफाली ने इस ट्वीट को प्रिंयका चतुर्वेदी पर तंज करने के लिए पोस्ट किया था।

फैक्ट चेकः

हमने इस मुद्दे पर एक कीवर्ड खोज की और हमें स्क्रॉल.कॉम का कराची बेकरी पर 2021 में लिखा एक लेख मिला। जिसने हमें इस मुद्दे के बारे में जानकारी मिली। कराची बेकरी की मुंबई शाखा वित्तीय घाटे के कारण मार्च 2021 में बंद हो गई। बंद होने तक इसका नाम कराची बेकरी ही रहा। लेख में उस विवाद के पहलुओं को भी शामिल किया गया था जिसका उल्लेख वैद्य ने किया था। इसके बाद बेकरी के मालिक ने खुद स्पष्ट किया कि बेकरी का नाम बदलने से कोई लेना-देना नहीं है।

वैद्य ने तथ्यों की पूरी तरह से पुष्टि किए बिना लेख का स्क्रीनशॉट पोस्ट किया। न तो कराची बेकरी ने अपना नाम बदला और न ही शिवसेना नेता को उनकी पार्टी ने समर्थन दिया जब उन्होंने अनुरोध किया। इसलिए, यह दावा भ्रामक है। शेफाली वैद्य का भ्रामक और फर्जी दावे पोस्ट करने का इतिहास रहा है। आप पिछले दावों पर हमारी रिपोर्ट यहां पढ़ सकते हैं।

विश्लेषणः

इस खास दावे पर शेफाली का अकेला स्टैंड नहीं है। वह इस तथ्य से विशेष रूप से नाराज थीं कि फैब इंडिया के विज्ञापन में बिंदी पहनने वाली महिलाएं नहीं थीं और इसलिए उन्होंने ट्विटर पर हैशटैग #NoBindiNoBusiness शुरू किया, ताकि कंपनी अपने मॉडल की बिंदी न पहनने के लिए निंदा कर सके।

हैशटैग ने काफी लोकप्रियता हासिल की और फिर उसने विभिन्न व्यवसायों को उजागर करने के लिए हैशटैग का उपयोग करना शुरू कर दिया। इसके बाद दिवाली के विज्ञापनों में बिंदियों का उपयोग नहीं करने वाले हर ब्रांड के खिलाफ अभियान चलाने का प्रयास किया जाने लगा।

उर्दू भारत की आधिकारिक भाषाओं में से एक है, लेकिन वैद्य इसे हिंदू संस्कृति का क्षरण मानती हैं। चूंकि हर ब्रांड, जिन्होंने अपने विज्ञापनों में बिंदी का इस्तेमाल नहीं किया, का उनके द्वारा बहिष्कार किया गया है, तो उसने एक सवाल पूछा जाना चाहिए कि क्या दिवाली पर बिंदी लगाने वाली कोई भी महिला उन लोगों की तुलना में कम हिंदू है? क्या किसी व्यक्ति की आस्था और धर्म को उसके पहनावे से समझा जाना चाहिए?