Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट चेकः मुंबई में अरबपतियों और करोड़पतियों के बारे में दावे की सच्चाई

सोशल मीडिया पूरी तरह से फेक और गलत सूचनाओं का मकड़जाल है। यहां ऐसे ऐसे दावों के साथ पोस्ट को शेयर किया जाता है जिसका जमीनी हकीकत से कोई वास्ता नहीं है। एक इंस्टाग्राम पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि मुंबई में 28 अरबपतियों और 46,000 करोड़पतियों का घर है और इसे भारत का सबसे अमीर शहर माना जाता है। पोस्ट होते के साथ ही इसे खूब शेयर किया गया जो फिलहाल जमकर वायरल हो गया है। पोस्ट को 2,415 से अधिक लाइक्स मिले हैं और इसे 23 अगस्त को पोस्ट किया गया था।

इस पोस्ट को इंस्टाग्राम पर बेटर_फैक्ट्स नामक पेज द्वारा पोस्ट किया गया है जो आश्चर्यजनक और अविश्वसनीय फैक्ट्स को पोस्ट करने का दावा करता है।

फैक्ट चेकः

वायरल हो रहे इस दावे की जांच करने पर कई फैक्ट सामने आए। दरअसल मुंबई को भारत के उद्योग और व्यापार केंद्र के रूप में जाना जाता है। यहां सिर्फ 28 अरबपति नहीं हैं। वास्तव में, मुंबई में 48 अरबपति हैं क्योंकि इसमें पिछले साल 10 अरबपतियों को और जोड़ा गया था।
फोर्ब्स के अनुसार, रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और अब एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी ने अपनी कुल संपत्ति को दोगुना कर लगभग 85 बिलियन डॉलर कर दिया, जो मुंबई के अरबपतियों की कुल संपत्ति का लगभग एक तिहाई है।

इसे वार्षिक फोर्ब्स अरबपति सूची के साथ क्रॉस रेफरेंस किया जा सकता है।

इसके अलावा, करोड़पतियों की संख्या को बहुत कम करके बताया गया है। द न्यू इंडियन एक्सप्रेस द्वारा प्रकाशित एक लेख के अनुसार, मुंबई में करोड़पतियों की संख्या 16,993 है। इसने आगे कहा कि भारत एक विशाल 4.12 लाख करोड़पति परिवारों का घर है, जिनमें से मुंबई में सबसे अधिक है।

साथ ही हिंदू बिजनेस लाइन द्वारा प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि मुंबई में 16,933 करोड़पति हैं। इसने आगे कहा कि मुंबई द्वारा देश की जीडीपी में 6.16 का योगदान दिया जाता है।

इन तथ्यों से साबित होता है कि इसमें कोई शक नहीं है कि मुंबई भारत का सबसे अमीर शहर है। लेकिन इंस्टाग्राम पोस्ट के आंकड़े गलत हैं।