Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

भ्रामक दावा: नहीं, करीना कपूर खान ने भारतीय दर्शकों को उनकी फिल्में नहीं देखने के लिए नहीं कहा

13 अगस्त, 2021 को, बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर खान का मशहूर पत्रकार बरखा दत्त ने इंटरव्यू किया है। बरखा ने यह इंटरव्यू अपने समाचार माध्यम मोजो द्वारा शुरु की गई पहल #CoversationsForChange के तहत ही लिया। इस इंटरव्यू की बात-चीत बॉलीवुड इंडस्ट्री में नेपोटिज़्म के इर्द-गिर्द केंद्रित ही थी, इसमें दिखाया गया कि कैसे करीना कपूर खान का करियर उन लोगों से अलग रहा है जिनके माता-पिता बॉलीवुड में नहीं हैं।
अब एक वीडियो क्लिप फेसबुक पर वायरल हो रही है, आदेश मलिक नाम के एक यूजर ने इस इंटरव्यू की 20 सैकेंड की एक क्लिप पोस्ट की, जिसमें करीना ने कहा कि भारतीय दर्शकों को उनकी फिल्में नहीं देखनी चाहिए और चूंकि कोई भी उन्हें फिल्में देखने के लिए मजबूर नहीं कर रहा है, इसलिए वे ऐसा करना जारी रखते हैं। इस कल्पि को पोस्ट करते हुए कैप्शन में लोगों से उनकी नई रिलीज़ का बहिष्कार करने का आह्वान किया गया है। इस क्लिप को फेसबुक पर 3,45,000 बार देखा जा चुका है और 23 अगस्त, 2021 को वीडियो पोस्ट किए जाने के बाद से इसे 20,000 से अधिक बार साझा किया जा चुका है।

फैक्ट चेक:

मोजो स्टोरी के यूट्यूब पेज पर एक लंबी क्लिप खोजने पर, हमने पाया कि वीडियो वास्तव में 8 मिनट 10 सेकंड की है। वीडियो में करीना को बॉलीवुड के प्रतिष्ठित परिवार से आने के विशेषाधिकार के बारे में बात करते हुए सुना जा सकता है और उनका संघर्ष किसी ऐसे व्यक्ति से अलग है जो नए सिरे से शुरुआत कर रहा होता है।

बरखा दत्त के साथ करीना कपूर खान का पूरा इंटरव्यू

वह बताती हैं कि कैसे एक बॉलीवुड में स्थापित परिवार से आने के बावजूद सिर्फ नेपोटिज्म ही उन्हें 21 साल का करियर नहीं दे सकता था। दर्शकों के बारे में उन्होंने जो बयान दिया, उससे ऐसा लगता है कि लाइन को संदर्भ से बाहर कर दिया गया था। वह इस तथ्य के जवाब में कहती है कि कुछ लोग हैं जो उनके विशेषाधिकार की आलोचना करते हैं और अभी भी उसकी फिल्में देखना जारी रखते हैं और अगर वे इससे इतने परेशान हैं तो उन्हें नहीं करना चाहिए। वह फिर इस बात पर जोर देती हैं कि यह दर्शक ही हैं जो एक फिल्म स्टार को बनाते या बिगाड़ते हैं। इसलिए, फ़ेसबुक पर पोस्ट की गई क्लिप में दावा किया गया है वह भ्रामक है।