Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट चेक: पाकिस्तान में तालिबान द्वारा एक मस्जिद को तोड़े जाने की वायरल तस्वीर के पीछे की सच्चाई

पाकिस्तान की एक क्षतिग्रस्त मस्जिद की तस्वीर सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ वायरल हो रही है कि यह पाकिस्तान की एक मस्जिद है जिसे तालिबान ने ध्वस्त कर दिया। नीचे दिए गए ट्वीटर हैंडल द्वारा इस तस्वीर को ट्वीट किया गया है।

हमने इस तस्वीर की सत्यता जानने के लिये पड़ताल शुरु की तो पाया कि इसे सबसे पहले जानवी सिंह नाम के एक यूजर ने 21 अगस्त 2021 को शाम 5:48 बजे पोस्ट किया था।

उसके बाद, 19 अन्य ट्विटर यूजर द्वारा उसी दावे और पैटर्न को कॉपी पेस्ट करके इस झूठ को आगे बढ़ाया गया।

इसमें अनिल गौड़ नाम के यूजर ने जवाब में एक ही बात को तीन बार ट्वीट किया।

हमने पाया कि ये ज्यादातर ट्रोल अकाउंट हैं, जो किसी भी कंटेंट की विश्वसनीयता को वेरिफाई किए बिना शेयर करना पसंद करते हैं। इन यूजर्स ने तैयार की पाठ्य सामग्री भी नहीं बदला है। बस उसी सामग्री को कॉपी और फॉरवर्ड किया।

तथ्यों की जांच:

वायरल तस्वीर की एक साधारण रिवर्स करने से ही पता चला कि यह इराक में ISIS द्वारा क्षतिग्रस्त की गई एक मस्जिद की तस्वीर थी।

फॉक्स न्यूज लेख

निष्कर्ष: इस प्रकार, उपरोक्त तस्वीर किसी भी तरह से घटना से तालिबान से संबंधित नहीं है जैसा कि वायरल ट्वीट्स में दावा किया गया था। यह 2014 की पुरानी तस्वीर है जब ISIS सुन्नी दरगाहों और शिया मस्जिदों को तबाह किया था। तस्वीर पाकिस्तान की किसी मस्जिद की नहीं, बल्कि इराक़ की है।