Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट चेकः तालिबान द्वारा महिला पायलट की हत्या का सच

अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा होने के बाद विश्व समुदाय की सबसे बड़ी चिंता महिलाओं की सुरक्षा और उनके अधिकारों को लेकर होने लगी है। तालिबानी कब्जे के बाद सोशल मीडिया पर तालिबानी बर्बरियत के वीडियो की बाढ़ सी आ गई है। दावा किया जा रहा है कि तालिबानी राज में महिलाओं पर अत्याचार होने शुरु हो गए हैं।

ऐसा ही महिला पर अत्याचार का एक फोटो हाल ही में सोशल मीडिया वायरल हो रहा है। एक महिला की ग्राफिक तस्वीर शेयर की जा रही है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि उसका नाम साफिया फिरोजी है। यह 4 अफगान महिला पायलटों में से एक थी और उसकी पत्थरों से मार-मारकर हत्या कर दी गई।

मूल ट्वीट और दावा

इस ग्राफिक फोटो को सबसे पहले संगीत सागर नाम के यूजर ने पोस्ट किया था। जिसके बाद इस फोटो को सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर व्यापक रूप से शेयर किया गया। हालांकि संगीत सागर ने अब ट्वीट को डिलीट कर दिया है।

फेसबुक पर वायरल हो रही तस्वीर

फैक्ट चेकः

जब इस दावे की जांच की गई तो वायरल हो रहे फोटो की सच्चाई सामने आई। दरअसल यह फोटो 2015 का है, जो फरखुंदा मलिकजादा नाम की एक महिला है। जिसकी लिंचिंग इस आरोप में की जा रही है कि इस महिला ने कुरआन के पन्नों को जलाया था। इस खबर को कई वेब पोर्टलों और अखबारों द्वारा पब्लिश किया गया है। इस तथ्य से यह साफ होता है कि यह फोटो साफिया फिरोजी का नहीं है और यह दावा पूरी तरह से झूठा है।

बेलफास्ट चाइल्ड द्वारा लिंचिंग पर एक रिपोर्ट
लिंक: https://belfastchildis.com/2016/02/17/the-brutal-killing-of-farkhunda-malikzada/