Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट चेकः क्या राजीव गांधी के सुरक्षाकर्मियों ने एक भिखारी को मार डाला था?

हाल ही में पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा के कथित खतरे को लेकर काफी विवाद हुआ था। पीएम मोदी जब फिरोजपुर में रैली करने जा रहे थे इस दौरान किसान आंदोलन की वजह से फ्लाईओवर पर 20 मिनट से ज्यादा फंसे रहे। इस घटना पर से पीएम के कथित खतरे पर काफी विवाद हुआ था।इस विवाद के बाद भारत के पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के भी कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे।

राजीव-इंदिरा के इन वायरल वीडियो को शेयर करने वाले यूजर्स यह दावा कर रहे थे कि इंदिरा-राजीव ने जान के खतरा वाले गंभीर स्थितियों में भी मजबूती से डटे रहे और विपक्षियों के सामने अपना लोहा मनवाया। इन यूजर्स का ये भी दावा था कि पीएम मोदी को भी स्थिति का सामना करना चाहिए था, उन्हें किसानों से बात करनी चाहिए थी। हालांकि इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने जांच का आदेश दिया और एक कमेटी भी गठित की है।

वहीं इस दौरान राजीव गांधी के कई वीडियो वायरल हुए। एक वीडियो श्रीलंका का था, जबकि दूसरा वीडियो भारत के राजघाट का था। राजघाट वाले वीडियो में राजीव गांधी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दे रहे थे। इस दौरान फायरिंग की आवाजें आ रही थीं। उनके सुरक्षाकर्मियों ने फौरान एक्शन लेते हुए मोर्चा संभाल लिया था। सोशल मीडिया पर इस वीडियो को वायरल करने वाले यूजर्स दावा कर रहे हैं कि राजीव गांधी के सुरक्षाकर्मियों की इस गोलीबारी में एक भिखारी की मौत हो गई, जो राजघाट पर रहता था।

दावा नंबर- एक

 

दावा नंबर-दो

 

फैक्ट चेकः

वायरल हो रहे इस दावे की सत्यता की जांच के लिए हमने गूगल पर “राजघाट पर राजीव गांधी की हत्या की कोशिश” को सर्च किया। हमें टीवी-9 हिन्दी का एक लेख मिला। इस लेख के मुताबिक 2 अक्टूबर 1986 को राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देते वक्त उन पर जानलेवा हमला किया गया था। हमलावर करमजीत सिंह पेड़ पर छिपकर बैठा था और उसने पिस्तौल से फायरिंग कर राजीव को निशाना बनाने की कोशिश की थी।

जिस वक्त राजीव गांधी की हत्या की कोशिश की गई, उनके साथ पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह और केंद्रीय मंत्री बूटा सिंह मौजूद थे। राजीव पर हमले के बाद आरोपी पंजाब के रहने वाले करमजीत सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया। इस घटना में किसी के मारे जाने की कोई खबर नहीं रिपोर्ट की गई। इस घटना को 2 साल पहले उनकी मां और देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या और उसके बाद हुए सिख विरोधी दंगों से जोड़कर देखा गया था, दरअसल इंदिरा की भी हत्या उनकी सुरक्षा में तैनात एक सिख गार्ड ने गोली मारकर की थी।
https://www.tv9hindi.com/india/on-this-day-2-october-1986-on-gandhi-jayanti-in-rajghat-attack-on-former-prime-minister-rajiv-gandhi-825940.html

करमजीत सिंह का नाम सामने आने के बाद हमने यूट्यूब पर करमजीत सिंह को सर्च किया। जिसके बाद हमें करमजीत सिंह का एक इंटरव्यू मिला। इस वीडियो को लिविंग इंडिया न्यूज नामक चैनल पर 5 जून 2016 को पोस्ट किया गया था। अपने इस इंटरव्यू में करमजीत बताता है कि उसने राजीव गांधी पर हमला सिख विरोधी दंगों को लेकर किया था।

निष्कर्षः

हमारी फैक्ट चेक से यह तथ्य सामने आया कि राजीव गांधी की हत्या का प्रयास किया गया था और हत्यारोपी को तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया था। इस घटना में किसी की जान का कोई नुकसान नहीं हुआ था। हालांकि कुछ पुलिसकर्मी घायल जरूर हो गए थे।

दावा- राजीव गांधी के सुरक्षाकर्मियों द्वारा भिखारी की हत्या
दावाकर्ता- सोशल मीडिया यूजर्स
फैक्ट- फेक