Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

फैक्ट चेक: बीजेपी नेताओं ने पाकिस्तान के घरेलू हिंसा के वीडियो को झूठे दावे के साथ किया शेयर

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें एक महिला को कुछ पुरुष घसीट कर एक कार में ले जाते हुए दिखाई दे रहे है, इस वीडियो को सोशल मीडिया पर भाजपा नेता मनजिंदर सिंह सिरसा और अश्विनी उपाध्याय ने साझा किया।

 

बीजेपी नेता का दावा
बीजेपी नेता का दावा

बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय ने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा कि ‘बहन काफिर है इसलिए अपहरण हो गया, कुंभा 100 साल में काबुल बना, गंधार 100 साल में कंधार बना, पर्सिया 100 साल में ईरान बना, कैकेय 100 साल में पेशावर बना, पाकिस्तान 1947 में हिंदुस्तान था, संविधान 100% लागू नहीं किया तो, हिंदुस्तान 2047 में पाकिस्तान बनेगा’

बीजेपी नेता का दावा
बीजेपी नेता का दावा

वहीं बीजेपी नेता मंजिंदर सिरसा ने ट्वीट कर कहा, देखिए कैसे दिन के उजाले में एक हिंदू महिला का अपहरण किया जाता है, बाहर सेशन कोर्ट उमरकोट, सिंध-पाकिस्तान। वह मदद के लिए चिल्ला रही है लेकिन पुलिस या किसी ने भी कार्रवाई नहीं की और उन्होंने उसे बालों से खींचकर कार में डाल दिया। @DrSjaishankar जी @ImranKhanPTI

सिरसा के इस ट्वीट के आधार पर भारतीय मीडिया ने भी इस दावे को सच मानकर रिपोर्ट की। जिसमे कहा कि एक हिंदू महिला का दिन के उजाले में अपहरण किया गया।

फैक्ट चेक:

पाकिस्तान डेली की रिपोर्ट
पाकिस्तान डेली की रिपोर्ट

 

उपरोक्त दावे की पड़ताल करने पर हमने पाया कि ये वीडियो एक घरेलू हिंसा का है। इस सबंध में हमारी टीम को पाकिस्तान डेली द्वारा की रिपोर्ट मिली। जिसमे बताया गया कि वेहरो शरीफ निवासी हरचंद भील की पत्नी तेजन 40 का उसकी पत्नी से विवाद हो गया था, इसलिए उसने एक विवाह विच्छेद के लिए सिविल कोर्ट उमरकोट का दरवाजा खटखटाया था। आज जब वह घर वापस आई तो एक मामले की सुनवाई के बाद उस पर 8 लोगों ने हमला कर दिया। स दौरान उसे बाल खींचकर सड़क पर घसीटा, अपमानित किया। उन्होंने उसका अपहरण करने का प्रयास किया। उसने शोर-शराबा किया, जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और उसे बचा लिया।

लाल मल्ही का ट्वीट
लाल मल्ही का ट्वीट

 

इसके अलावा हमें पाकिस्तान के नेशनल असेंबली के सदस्य लाल मल्ही का एक ट्वीट भी मिला। जिसमे उन्होने कहा कि वीडियो में आरोपी मुस्लिम नहीं हैं, बल्कि उस महिला के रिश्तेदार हैं जिस पर हमला किया जा रहा है और वह भील समुदाय के है। उन्होंने यह भी कहा कि आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और गिरफ्तारी भी कर ली गई है।

अत: बीजेपी नेताओं का किया गया दावा झूठा और फर्जी है।