Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने मोदी सरकार पर निशाना साधने के लिए किया फर्जी तस्वीर का उपयोग

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और तिरुवनंतपुरम से सांसद शशि थरूर ने हाल ही में अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट किया। जिसमे उन्होने केंद्र की मोदी सरकार पर तंज़ कसने के लिए एक ट्रक की तस्वीर का इस्तेमाल किया। जिसमे लिखा है – ‘कृपया हॉर्न ना बजाएँ, मोदी सरकार सो रही है।’

उनका ये ट्वीट काफी वायरल हो रहा है। अब तक इस ट्वीट को 31000 से ज्यादा यूजर लाईक कर चुके है और 2000 से ज्यादा बार इस ट्वीट को रीट्वीट भी किया जा चुका है।

फेक्ट चेक

हालांकि शशि थरूर ने जिस तस्वीर का इस्तेमाल किया है। वह तस्वीर एडिटेड है। 

स्त्रोत: libs-spot.blogspot.com

ट्वीटमें शेयर की गई तस्वीर की रिवर्स इमेज सर्च करने पर ट्रक की ऐसी ही तस्वीर ‘बियानोटी’ वेबसाइट पर प्रकाशित एक लेख में मिली। मूल तस्वीर में, इस ट्रक के पिछले हिस्से पर दावा किया गया कोई संदेश नहीं है। इसके अलावा यह मूल तस्वीर 70 नवंबर 2011 को प्रकाशित एक ब्लॉग पर भी मिली है।

फेसबुक पोस्ट

इससे पहले भी ट्रक की इसी तरह की तस्वीर को एडिट कर फेसबुक पर साझा किया गया था जिसमें कांग्रेस नेताओं के खिलाफ संदेश था। जिसमे लिखा था – ‘डीज़ल पे चलती हूँ, भाड़ा सही लगाऊँगी। सोनिया-राहुल के तरह, दलाली नही खाऊँगी।‘ 

इसके अलावा कांग्रेस के आधिकारिक अकाउंट से भी 15 मार्च 2019 को इस तस्वीर को ट्वीट किया गया था। साथ ही लिखा गया था – ‘यदि आप जाग रहे हैं तो यह आपके लिए है, लेकिन दुख की बात है कि मोदी इसे नहीं पढ़ रहे होंगे।’

वहीं आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट ने 23 फरवरी 2018 को और लेखक मधु पूर्णिमा किश्वरी ने 21 फरवरी 2018 को इस तस्वीर को ट्वीट किया था। जिसमे उन्होने लिखा था – ‘भारत के ट्रकों में अक्सर सांसारिक ज्ञान, चुटीले हास्य, दार्शनिक कविता और राजनीतिक टिप्पणी के शब्द होते हैं। यह वॉल्यूम बोलता है!’

स्त्रोत: टाइम्स ऑफ इंडिया

इतना ही नहीं इस तस्वीर के सबंध में ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने भी 15 मार्च 2019 को एक तथ्य-जांच लेख प्रकाशित किया। जिसे यहां से पढ़ा जा सकता है।

निष्कर्ष:

इन सभी सबूतों और विश्लेष से यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि पोस्ट में शेयर की गई तस्वीर से छेड़छाड़ की गई है। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने जो तस्वीर ट्वीट की है। उसमे डिजिटल रूप से हेराफेरी की गई है। ट्रक की असली तस्वीर पर “मोदी सरकार सो रही है” लिखा हुआ बोर्ड नहीं है। इसे कुछ फोटो-संपादन सॉफ्टवेयर (Photo-editing software) का उपयोग करके जोड़ा गया।