Digital Forensic, Research and Analytics Center

बुधवार, अगस्त 10, 2022
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
होमOpinionअंग्रेजी हुकूमत में भारत का विकास हुआ या नुकसान?

अंग्रेजी हुकूमत में भारत का विकास हुआ या नुकसान?

Published on

Subscribe us

कांग्रेस के लोकसभा सांसद और लेखक शशि थरुर ने 28 मई 2015 को ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में एक व्याख्यान दिया था। इस व्याख्यान में उन्होंने भारत में अंग्रेजी हुकूमत की दमनकारी नीतियों की आलोचना की थी। थरूर के इस व्याख्यान ने उस वक्त खूब सुर्खियां भी बटोरी थीं। थरूर ने दावा किया था कि अंग्रेजों के अधीन वैश्विक अर्थव्यवस्था में भारत की हिस्सेदारी 23% से घटकर 4% हो गई थी। यह दावा इतिहासकार एंगस मैडिसन की शोध पर आधारित था। भारत का वैश्विक औद्योगिक उत्पादन 1750 में 25% से घटकर 1900 में 2% हो गया था। ऐसा क्यों हुआ, जबकि यह माना जाता है कि भारत के औद्योगीकरण और आधुनिकता में ब्रिटिश शासन का योगदान रहा है।

ग्लोबल इकॉनमी बनाम ईयर
ग्लोबल इंडस्ट्रियल आउटपुट बनाम ईयर

इस गिरावट के पीछे कई कारण हैं। अंग्रेजों के शासन में कृषि का विस्तार जरूर हुआ लेकिन किसानों को अफीम की खेती करने के लिए मजबूर किया गया था। जिससे गरीबी से जूझते किसानों को कर्ज लेना पड़ा। इस कदम ने उत्तर प्रदेश और बिहार के लाखों को प्रभावित किया। अंग्रेजों द्वारा उन पर लगाए गए भूमि करों और अन्य लागतों के कारण उनकी आजीविका पूरी तरह से ध्वस्त हो गई थी। इन अफीम कारखानों में सुरक्षा प्रबंधनों की कमी के कारण हजारों भारतीयों की मौत भी हो गई थी।

यहां ध्यान देने योग्य एक आश्चर्यजनक तथ्य यह है कि प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश सेना में भारतीयों का वास्तव में एक बड़ा हिस्सा प्रतिनिधित्व करता था। प्रथम विश्व युद्ध में भारत का व्यय 8 बिलियन पाउंड था। इसके अलावा, युद्ध समाप्त होने के बाद ब्रिटेन पर भारत का 1.25 बिलियन पाउंड बकाया था, लेकिन यह कर्ज कभी भारत को चुकाया नहीं गया।

ब्रिटिश शासन के दौरान हुए भारत में फैले अकाल और महामारियों में ब्रिटेन ने भारत का शोषण किया। इन अकालों में लाखों भारतीयों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। मरने वाले भारतीयों में कई लोगों को बचाया जा सकता था, अगर ब्रिटेन खाद्यान्नों का भंडारण यूरोप में नहीं करता। हालांकि, गंभीर आर्थिक कुप्रबंधन को अंग्रेजों ने पूरी तरह से नजरअंदाज नहीं किया था। उस समय विपक्षी दल के नेता एडमंड बर्क ने 1778 में भारत में आर्थिक कुप्रबंधन के आरोप में वॉरेन हेस्टिंग्स और ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ 7 सालों तक लंबा मुकदमा चलाया था।

हालांकि यह काफी हद तक माना जाता है कि भारत में गैर-औद्योगीकरण के लिए ब्रिटिश शासन जिम्मेदार था। थरूर के भाषण का मुख्य भाग वास्तव में इस बात पर केंद्रित था कि सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक शोषण के प्रभाव को कैसे कम किया जा सकता था।

क्षतिपूर्ति क्या है?

क्षतिपूर्ति को एक इकाई द्वारा किए गए दुरुपयोगों के लिए दिए जाने वाले मुआवजे के रूप में वर्णित किया गया है। अतीत में, क्षतिपूर्ति का भुगतान उस पक्ष द्वारा किया जाता था, जो एक युद्ध हार गया हो। जिसे प्रथम विश्व युद्ध के अंत में प्रदर्शित किया गया था जब जर्मनी और उसके सहयोगियों को पुनर्मूल्यांकन में अरबों डॉलर का भुगतान करना पड़ा था। अब इस शब्द को मोटे तौर पर उन लोगों को दिए जाने वाले मुआवजे के रूप में समझा जाता है जिनके मानवाधिकारों का उल्लंघन किया गया है। अब, क्षतिपूर्ति कई प्रकार की हो सकती है, जिसमें पीड़ितों को भुगतान की जाने वाली धनराशि या यहां तक कि उन्हें ऐसे संसाधन उपलब्ध कराना शामिल है जिनकी व्यक्ति या समुदाय को आवश्यकता होती है। अतीत में क्षतिपूर्ति के विभिन्न उदाहरण देखे गए हैं।

कनाडा की सरकार ने देश के लोगों को 350 मिलियन डॉलर का भुगतान किया, जो सरकारी भेदभाव और उत्पीड़न का शिकार हुए थे। थरूर हालांकि ब्रिटेन को पुनर्स्थापनात्मक न्याय के कार्य में शामिल होने के बजाय उनके द्वारा किए गए नैतिक ऋण को स्वीकार करने की आवश्यकता की ओर इशारा करते हैं। इसलिए अगर ब्रिटेन द्वारा भारत को सदियों से हुए नुकसान और देश में हुई मौतों की क्षतिपूर्ति के लिए भुगतान करना पड़ेगा, तो यह राशि वास्तव में कितनी होगी? इसका आंकलन प्रसिद्ध अर्थशास्त्री उत्सा पटनायक ने किया है। उत्सा पटनायक का अनुमान है कि यह राशि 44.6 ट्रिलियन डॉलर है, जो ब्रिटेन के सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी का 20 गुना ज्यादा है। पटनायक के शोधकार्यों से यह स्पष्ट है कि ब्रिटेन ने किसी भी तरह से भारत का विकास नहीं किया, बल्कि भारत के पैसों से ब्रिटेन का विकास हुआ है।

- Advertisement -

‘हर-हर शंभू’ भजन की गायिका फरमानी नाज अपनाएंगी हिन्दू धर्म?

Load More
DFRAC Editor
DFRAC Editorhttps://dfrac.org
Digital Forensics, Research and Analytics Centre (DFRAC) is a non-partisan and independent media organisation which focuses on fact-checking and identifying hate speech. With the popularisation of the internet came the challenge of information overload and often times, our feeds are overpopulated with conflicting, incendiary and false information which is increasingly becoming difficult to ignore and not believe in

Popular of this week

Latest articles

फैक्ट चेक: जामा मस्जिद पर दिल्ली पर्यटन विभाग ने किया ग़लत दावा

आम भारतीय जनमानस में ये बात क़ायदे से बैठ गई है कि दिल्ली की...

फैक्ट चेक: गाज़ा पर इस्राइल के हमले के बीच 2018 की तस्वीर वायरल

पिछले तीन दिनों से इस्राइल की गाज़ापट्टी पर भीषण बमबारी जारी है। इस हमले...

फैक्ट चेकः नीतीश कुमार ने आतंकी इशरत जहां को बताया था अपनी बेटी? 

बिहार का राजनीतिक माहौल गर्म है। नीतीश कुमार क्या करेंगे उसको लेकर सिर्फ कयासबाजी...

फैक्ट चेकः जवाहर लाल नेहरू ने खुद को दुर्भाग्य से हिन्दू और संस्कृति से मुस्लिम कहा था?

सोशल मीडिया पर भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को लेकर एक दावा...

all time popular

More like this

फैक्ट चेक: जामा मस्जिद पर दिल्ली पर्यटन विभाग ने किया ग़लत दावा

आम भारतीय जनमानस में ये बात क़ायदे से बैठ गई है कि दिल्ली की...

फैक्ट चेक: गाज़ा पर इस्राइल के हमले के बीच 2018 की तस्वीर वायरल

पिछले तीन दिनों से इस्राइल की गाज़ापट्टी पर भीषण बमबारी जारी है। इस हमले...

फैक्ट चेकः नीतीश कुमार ने आतंकी इशरत जहां को बताया था अपनी बेटी? 

बिहार का राजनीतिक माहौल गर्म है। नीतीश कुमार क्या करेंगे उसको लेकर सिर्फ कयासबाजी...

फैक्ट चेकः जवाहर लाल नेहरू ने खुद को दुर्भाग्य से हिन्दू और संस्कृति से मुस्लिम कहा था?

सोशल मीडिया पर भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को लेकर एक दावा...

फैक्ट चेक- सीएम MK स्टालिन ने ढहाया शिव मंदिर?

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में...

फैक्ट चेक: क्या आरएसएस कार्यकर्ता ने जलाया भारत का राष्ट्रीय ध्वज?

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है। जिसमे एक शख्स को भारत...